महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी मामला : कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर सियासी घमासान, आमने-सामने हुई सरकारें

थर्ड आई न्यूज

रायपुर । महात्मा गांधी पर की गई अभद्र टिप्पणी के बाद रायपुर के टिकरापारा थाने में कालीचरण महाराज पर धारा 294, 505बी 295ए 53ए के तहत केस दर्ज किया गया था। इसके बाद से ही पुलिस उन्हें तलाश रही थी। रायपुर में आयोजित धर्म संसद में महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी करने वाले कालीचरण को रायपुर पुलिस ने खजुराहो से गिरफ्तार कर लिया है। उसके साथ दो समर्थकों को भी हिरासत में लिया गया है। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री डा नरोत्तम मिश्रा ने कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर आपत्ति जताते हुए कहा कि प्रदेश की पुलिस को जानकारी दिए बिना गिरफ्तारी गलत है। इस पर सीएम भूपेश बघेल और छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया है।

जानकारी हो कि महात्मा गांधी पर की गई अभद्र टिप्पणी के बाद रायपुर के टिकरापारा थाने में कालीचरण महाराज पर धारा 294, 505बी 295ए 53ए के तहत केस दर्ज किया गया था। इसके बाद से ही पुलिस उन्हें तलाश रही थी। विरोध के बाद कालीचरण महाराज का एक और वीडियो सामने आया था, जिसमें उन्होंने अपने बयानों पर माफी मांगने से इनकार कर दिया था। छत्तीसगढ़ पुलिस की तीन टीम कालीचरण महाराज की खोज में दिल्ली, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र भेजी गई थी। जिसमें से मध्य प्रदेश भेजी गई टीम को सफलता मिली। कालीचरण महाराज ने खजुराहो के पल्लवी गेस्ट हाउस में भी एक रूम बुक कर रखा था। महात्मा गांधी पर टिप्पणी को लेकर कालीचरण महाराज के खिलाफ महाराष्ट्र के पुणे में भी केस दर्ज किया गया था।

मालूम हो की कालीचरण महाराज पर राजद्रोह का केस दर्ज है। रायपुर एसएसपी ने कहा कि 26 दिसंबर को रावनभाठा के धर्म संसद में दिए विवादित व्याख्यान पर थाना टिकरापारा में कालीचरण महाराज के विरुध्द धारा 294, 505(2) भादंवि का अपराध दर्ज किया गया था। विवेचना के दौरान साक्ष्यों के आधार पर धारा 153 ए(1)(ए), 153 बी (1)(ए), 295 ए, 505(1)(बी) , 124 ए भादंवि का भी समावेश किया गया है। अपराध पंजीबद्ध होने के बाद से कालीचरण अपना फोन बंद कर फरार हो गया था। रायपुर पुलिस की अलग-अलग टीम आरोपी कालीचरण की गिरफ्तारी के लिए मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली रवाना हुई थी और सभी संभावित स्थानों पर पता कर रही थी I

मध्य प्रदेश की टीम को खजुराहो में आरोपी कालीचरण के बारे में कुछ जानकारी मिली जिसके आधार पर खजुराहो से 25 किमी दूर बागेश्वर धाम के पास एक व्यक्ति के घर से जहां कालीचरण महाराज किराए से रह रहे थे, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। हिरासत में लेने के बाद आरोपित के वकील को इसकी सूचना दी गई है। हिरासत में लेने के 24 घंटे के भीतर रायपुर पुलिस द्वारा रायपुर के माननीय न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत कर दिया जाएगा। रायपुर पुलिस द्वारा पूरी प्रक्रियाओं का पालन करते हुए कालीचरण महाराज को हिरासत में लिया गया है। देर शाम तक पुलिस टीम के रायपुर पहुंचने की संभावना है।

वहीं मुख्यमंत्री सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि महात्मा गांधी के बारे में कोई अभद्र टिप्पणी करें तो उनके खिलाफ कार्रवाई तो होगी हीं । सीएम बघेल ने ट्वीट कर कहा, बापू को गाली देकर, समाज मे विष वमन करके अगर किसी पाखंडी को लगता है कि वो अपने मंसूबों में कामयाब हो जाएंगे, तो उनका भ्रम है। उनके आका भी दोनों सुन लें, भारत और सनातन संस्कृति दोनों की आत्मा पर चोट करने की जो भी कोशिश करेगा। न संविधान उसे बख्शेगा, न जनता उन्हें स्वीकार करेगी।

मालूम हो कि छत्तीसगढ़ में पूर्व मंत्री और भाजपा नेता बृजमोहन अग्रवाल ने ट्वीट कर कालीचरण महाराज को रिलीज करने की मांग की है। ऐसी कार्यवाही शासन का दुरुपयोग है, गांधी जी के सिद्धांतों के विरुद्ध है। इसमें उन्होंने #ReleaseKalicharanMaharaj हैशटेग का उपयोग किया है। कालीचरण महाराज को छोड़ने के लिए ट्विटर पर #ReleaseKalicharanMaharaj ट्रैंड चलाया जा रहा है।

%d bloggers like this: