बुल्ली बाई मामला: मुख्य आरोपी नीरज ने मुंबई पुलिस का उड़ाया मजाक, नवंबर में बना लिया था एप, मांगी अन्य आरोपियों की रिहाई

थर्ड आई न्यूज

नई दिल्ली l बुल्ली बाई एप मामले में दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आए कंप्यूटर इंजीनियरिंग के छात्र नीरज बिश्नोई ने मुंबई पुलिस द्वारा की गई गिरफ्तारियों के लिए पुलिस का मजाक उड़ाया और खुलेआम चुनौती दे दी। आरोपी ने ट्वीट करके मुंबई पुलिस को ‘स्लम बाई पुलिस’ बताया और गलत लोगों को गिरफ्तार करने की बात कही। ट्विटर पर आरोपी ने स्वीकार किया कि बुल्ली बाई एप उसने बनाया है, मुंबई पुलिस बेकसूर लोगों को जल्द रिहा कर दे।

पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने बुल्ली बाई एप नवंबर में ही बना लिया था, लेकिन इसे दिसंबर में अपडेट कर मुस्लिम महिलाओं को तस्वीरें डालीं। आरोपी ने ऐसी हरकत क्यों की और इस साजिश में इसके साथ और कौन-कौन लोग शामिल हैं इसकी जांच जारी है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपी ने सनक की वजह से वारदात को अंजाम दिया।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मूलरूप से राजस्थान का रहने वाला नीरज का परिवार असम के जोरहाट में रहता है। उसके पिता दशरथ बिश्नोई कारोबार के सिलसिले में असम में शिफ्ट हो गए थे। अब उसके परिवार में मां और दो बहनें हैं। कोविड काल में नीरज ने इंजीनियरिंग में दाखिला लिया।

एडमिशन के बाद उसका कॉलेज कोविड की वजह से नहीं खुला। वह घर से ही पढ़ाई कर रहा था। नीरज के परिजनों ने आरोपी की ऐसी किसी भी हरकत से इनकार किया है। परिवार का कहना है कि कुछ समय पूर्व नीरज एक शादी में राजस्थान गया था। वहां से दिल्ली होते हुए 25 दिसंबर को लौट आया था।

एप के प्रचार के लिए बनाया ट्विटर हैंडल :
नीरज ने खुलासा किया है कि उसने बुल्ली बाई एप को प्रमोट करने के लिए ट्विटर हैंडल बनाया। इसके बाद 31 दिसंबर को एक और हैंडल बनाकर ट्वीट करना शुरू किया। मामला जब सुर्खियों में आया तो नीरज लगातार खबरों पर नजर रख रहा था। मुंबई पुलिस की गिरफ्तारी के बाद आरोपी ने ट्वीट कर मुंबई पुलिस पर तंज कसा था।

%d bloggers like this: