आयुर्वेद की सलाह: इम्युनिटी बढ़ाने के लिए लौंग और काली मिर्च को कर लें आहार में शामिल, संक्रमण का खतरा रहेगा मीलों दूर

थर्ड आई न्यूज

नई दिल्ली l पिछले दो साल में कोरोना की आई दो लहरों ने हमें इम्युनिटी मजबूत होने के फायदों के बारे में स्पष्ट तरीके से समझा दिया है। फिलहाल देश में ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे ने तीसरी लहर की दश्तक दे दी है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ बचाव के लिए सभी लोगों से लगातार कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर का पालन करने के साथ इम्युनिटी को मजबूत बनाने वाले उपाय करते रहने की सलाह दे रहे हैं। इम्युनिटी को मजबूत बनाने के तरीकों की बात हो तो आयुर्वेद को सबसे कारगर विकल्प के रूप में देखा जाता रहा है। आयुर्वेद में कई सारी ऐसी औषधियां और जड़ी-बूटियां मौजूद हैं जो न सिर्फ प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाती हैं, साथ ही कई तरह के बीमारियों के जोखिम को कम करने की भी क्षमता रखती हैं।

हाल के वर्षों में पश्चिमी देशों में भी आयुर्वेद का उपयोग बढ़ा है। कई औषधियों पर किए गए अध्ययनों में भी इसके स्वास्थ्य को लेकर बेहतर परिणाम देखने को मिले हैं। कोरोना के दौर में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए आइए ऐसी ही दो कारगर औषधियों के बारे में आगे की स्लाइडों में जानते हैं।

शुद्धी आयुर्वेद के संस्थापक और आयुर्वेदाचार्य आचार्य मनीष बताते हैं, वैसे तो आयुर्वेद में कई सारी औषधियों के बारे में बताया गया है जिनको आहार में शामिल करके आप स्वास्थ्य लाभ पा सकते हैं। पर जब बात प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने की हो तो ऐसे में जिन दो औषधियों को सबसे कारगर माना जाता है वह हैं लौंग और काली मिर्च। इन दोनों में कई ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो इम्युनिटी बढ़ाने के साथ संक्रमण से सुरक्षित रखने में आपकी मदद कर सकते हैं।

लौंग के फायदे :
लौंग के औषधीय गुण
अध्ययनों से पता चलता है कि लौंग कई तरह के औषधीय गुणों से भरपूर होता है जिनकी शरीर को रोजाना आवश्यकता होती है। मसाले के रूप में हर घर में इसका उपयोग किया जाता रहा है। लौंग में विटामिन-के, मैंगनीज और फाइबर के साथ कई तरह के एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो शरीर की कोशिकाओं को संक्रमण से सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए इसका सेवन करना लाभदायक माना जाता है।

काली मिर्च के लाभ :
काली मिर्च के औषधीय गुण
लौंग की ही तरह से काली मिर्च को भी पोषक तत्वों का खजाना माना जाता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो सूजन की समस्या को कम करते हैं। इसके अलावा ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में भी लौंग को फायदेमंद माना जाता है। पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ावा देने और आंत को स्वस्थ रखने में भी इसे काफी कारगर माना जाता है।

काढे़ का सेवन है फायदेमंद :
कैसे करें इसे आहार में शामिल?
आचार्य मनीष बताते हैं कोरोना के इस दौर में काढ़े में लौंग और काली मिर्च को मिलाकर इसका सेवन किया जा सकता है। भोजन में मसाले के रूप में इसे प्रयोग में लाया जा सकता है। इन दोनों का नियमित सेवन आपको मौसमी बीमारियों के जोखिम से बचाने में भी सहायक हो सकता है। हालांकि ध्यान रखें, सेवन नियत मात्रा में ही किया जाना चाहिए।

%d bloggers like this: