उत्तर पूर्वी राज्यों में वन क्षेत्र में भारी कमी, पिछले दो साल में 1020 वर्ग किमी जंगल हुए कम

थर्ड आई न्यूज

नई दिल्ली l देश के कुल वन क्षेत्र का आकलन करने वाली नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, पिछले दो वर्षों में उत्तर-पूर्वी राज्यों में कुल वन क्षेत्र में 1,020 वर्ग किलोमीटर की कमी आई है। पर्यावरण मंत्रालय द्वारा गुरुवार को जारी इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट (ISFR) 2021 से पता चला है कि उत्तर-पूर्वी राज्यों में कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 2,62,179 वर्ग किमी में से 1,69,521 वर्ग किमी वन क्षेत्र है। यह देश के भौगोलिक क्षेत्रफल का 7.98 प्रतिशत है।

आठ उत्तर पूर्वी राज्यों में वन क्षेत्र देश के कुल वन क्षेत्र का 23.75 प्रतिशत है। जबकि अरुणाचल प्रदेश ने 257 वर्ग किमी का अधिकतम वन क्षेत्र खो दिया, मेघालय ने 249 वर्ग किमी, नागालैंड ने 235 वर्ग किमी, मिजोरम ने 186 वर्ग किमी, मेघालय ने 73 वर्ग किमी, असम ने 15 वर्ग किमी, त्रिपुरा ने 4 वर्ग किमी और सिक्किम ने एक वर्ग किलोमीटर वन क्षेत्र खो दिया।

रिपोर्ट के अनुसार, देश के इस क्षेत्र में झूम खेती की विशेषता है, जहां वन भूमि को कृषि भूमि में परिवर्तित किया जाता है और खेतों में अपेक्षाकृत कम समय के लिए खेती की जाती है। इसके बाद क्षेत्र को ठीक होने दिया जाता है या लंबे समय तक परती छोड़ दिया जाता है और यह गतिविधि कुछ वर्षों के बाद दोहराई जाती है। द्विवार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस तरह की कृषि पद्धतियां मुख्य रूप से इस क्षेत्र में वन क्षेत्र में उतार-चढ़ाव का कारण बनती हैं।

%d bloggers like this: