मारवाड़ी सम्मेलन, नगांव शाखा द्वारा आज भोगाली बिहू समन्वय का भव्य आयोजन 

नगांव से डिंपल शर्मा

मारवाड़ी सम्मेलन, नगांव शाखा द्वारा आज श्री गोपाल गौशाला, माजरहाटी, नगांव में  भोगाली बिहू ” समन्वय” का प्रथम बार आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि शिक्षाविद एवं साहित्यकार  डा० नरेन कलिता एवं मुख्य वक्ता प्राण बरूवा थे। सर्वप्रथम पताका उत्तोलन मुख्य अथिति डा० नरेन कलिता एवं असमिया एवं मारवाड़ी समाज के 30  प्रबुद्ध नागरिकों द्वारा किया गया। इस पताका उत्तोलन कार्यक्रम में उपस्थित लोगों में प्रमुख श्री प्राण बरूआ,श्री सांवरमल खेतावत, डा० मधुसूदन गोस्वामी, श्री देवव्रता शर्मा, पूर्व मंत्री श्री गिरिंद्र बरूआ, श्री आलोक मोनी भट्टाचार्य, श्री प्रहलाद राय मित्तल, नगांव कॉलेज के प्रिंसिपल श्री शरद बोरकोटोकी, डा० बालिन भुइयां, श्री रवि शंकर मजूमदार, श्री गंगा बल्लभ गोस्वामी, श्री देवेन्द्र सिंह सहमी, श्री रमाकांत मिश्रा,श्री हिम्मत सिंह सोलंकी, श्री उत्तम चंद नहाटा, श्री कनक हजारिका, श्री प्राण गोहाई, श्री जादव सैकिया, पंडित शिव प्रसाद दाधीच, श्री पवन गरोडिया ,श्री किशोरी लाल कोठारी, श्री महावीर किल्ला, श्री सीताराम बुधिया, डा० चिंतामणि शर्मा,श्री धनपत घोड़ावत, श्री रमेश डेका, श्री अजय खान, श्री गोपाल पोद्दार, श्री मोहन लाल नहाटा, एवं श्री सुरेन्द्र अग्रवाल थे। इन सभी अथितिओ का फूलाम गामोसा से स्वागत किया गया।

इसके बाद पूरे असमिया रीति रिवाज के साथ मेजी प्रजवल्लन का कार्यक्रम आयोजित किया गया। मेजी को अग्नि प्रजवल्लन  आज के मुख्य अतिथि डा० नरेन कलिता एवं मारवाड़ी सम्मेलन के नगांव शाखा के अध्यक्ष श्री ललित कोठारी ने किया। 

इसके पूर्व नगांव के विधायक श्री रूपक शर्मा एवं ब्रह्मपुर के विधायक श्री जीतू गोस्वामी ने अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद कार्यक्रम स्थल पर पहुंच कर अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई और आयोजको को इस अभिनव बिहू कार्यक्रम आयोजित करने के लिए धन्यवाद ज्ञापन किया और ढेर सारी शुभकामनाएं दी।

इसके बाद बिहू मंच पर अध्यक्ष श्री ललित कोठारी ने मुख्य अथिति एवं मुख्य वक्ता को आमंत्रित किया। मंच पर पूर्व अध्यक्ष श्री अनिल शर्मा, अध्यक्ष ललित कोठारी, सचिव संजय गरोडिया, कोषाध्यक्ष अजय मित्तल उपस्थित थे। मंच संचालन अनिल शर्मा एवं ललित कोठारी ने किया।  रूपकंवर ज्योति प्रसाद अगरवाला  की फोटो पर पुष्प अर्पण एवं दीप जला कर उन्हे श्रद्धांजलि अर्पित की गई।   श्री विनोद पोद्दार ने मुख्य अथिति का संक्षिप्त जीवन परिचय दिया। मुख्य अथिति का स्वागत पवन किल्ला ने फूलाम गमोसा से, ओमप्रकाश जाजोदिया ने अंग वस्त्र से एवं ललित कोठारी ने जापी पहना कर किया। डा० नरेन कलिता ने अपने सारगर्भित भाषण में मारवाड़ी सम्मेलन द्वारा आयोजित बिहू कार्यक्रम की भूरी भूरी प्रसंशा की। उन्होंने इसे समय की जरूरत बताया।

उन्होंने मारवाड़ी समाज द्वारा असम के लिए किए गए अवदानो  को याद करते हुए कहा की असोमिया मारवाड़ी समाज अब असम की मिट्टी में रच बस गया है। किसी  के कहने से मारवाड़ी समाज ओना असमिया या बोहिरागोत नहीं हो सकता है।

मुख्य वक्ता श्री प्राण बोरूआ ने कहा की वो एक पुस्तक पर काम कर रहे है जिसमे मारवाड़ी समाज का असम के प्रति किए गयो योगदानों को समाहित किया जायेगा। उन्होंने इस बिहू कर्याकाम को  दोनो समाज के बीच समन्वय स्थापित करने का एक महत्वपूर्ण कदम बताया।

पूर्व मंत्री श्री ग्रीनिंद्र बरूआ ने भी मारवाड़ी समाज द्वारा असम के प्रति की गई सेवाओं को याद किया और कहा की उन्होंने कल्पना भी नहीं की थी की इतना अच्छा कार्यक्रम आयोजित होगा।

श्री कनक हजारिका, श्री देवव्रता शर्मा, विश्वनाथ कॉलेज के प्रिंसिपल डा० चिंतामनि शर्मा  ने भी सभा को संबोधित किया। इस अवसर पर मारवाड़ी एवं असमिया समाज के गणमान्य नागरिक भी काफी संख्या में उपस्थित थे।

इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसका निर्देशन एवं संचालन श्री मति निर्मला आलमपुरिया ने किया। इस सांस्कृतिक कार्यक्रम की खासियत ये थी की सारे प्रतिभागी मारवाड़ी थे और पूरा कार्यक्रम असमिया भाषा में आयोजित हुआ। सर्वप्रथम अपने सुंदर  बिहू नृत्य से  पायल दुगड़, साक्षी गरोड़िए, खुशबू पाटोदिया और यासिका दुगड़  ने समा बांध दिया। इसके बाद डिंपल झांवर द्वारा बिहू नृत्य, संदीप पारीक द्वारा ज्योति संगीत, ललित किल्ला, तनिश गरोडिया, गौरव भरतीया द्वारा बगानिया नृत्य,निर्मला आलमपुरिया द्वारा भूपेंद्र संगीत, मारवाड़ी समाज की बहुओं लता पारीक, ज्योति दुगड़, मधु जोशी, हेमा झांवर और 5 वर्षीय माहिम पारीक द्वारा बिहू नृत्य,  छबि गिंदड़ा, पूर्वी केजरीवाल, चहक जोगणी, तेजस्वी वैद, भाविका केजरीवाल द्वारा बिहू नृत्य, संदीप पारीक द्वारा बिहू गीत, पायल खेतावत, रिषिका पारीक, अंजली अग्रवाल, सारिका राज पुरोहित द्वारा बिहू डांस एवं निर्मला आलमपुरिया द्वारा असमिया एवं राजस्थानी गीत गाया गया। कार्यक्रम का समापन  राष्ट्रीय गीत से किया गया। इस कार्यक्रम में नेत्र दानी स्वर्गीय सीता देवी केजरीवाल, स्वर्गीय प्रभा नहाटा, स्वर्गीय रतनी देवी सुराना के परिवार जनों का भी अभिनंदन किया गया।

कार्यक्रम के अंत में असमिया स्वल्पाहार की भी व्यवस्था की गई।

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में सम्मेलन के कार्यकर्ताओं का महत्वपूर्ण योगदान रहा जिसमे प्रमुख सम्मेलन के उपाध्यक्ष श्री प्रमोद कोठारी, प्रदीप शोभासरिया,अरुण नागरका, पवन किल्ला, विनय अग्रवाल, अनूप पोद्दार, सुरेश शर्मा सुरिया, श्री विनोद बोथरा है। आज के इस कार्यक्रम में नगांव के पत्रकार बंधुओ का भी फुलाम गामोसा से स्वागत किया गया। अंत में सभी उपस्थित लोगो को  सचिव संजय गरोडिया ने  धन्यवाद ज्ञापित किया।यह जानकारी सम्मेलन के कोषाध्यक्ष अजय मित्तल ने एक प्रेस विज्ञप्ति में दी।

%d bloggers like this: