कोरोना मरीजों के लिए राज्य सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस, दी गई कई राहत

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी. राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना मरीजों के लिए नई गाइडलाइंस जारी की है. इसके मुताबिक अस्पतालों, सरकारी और निजी दोनों में मरीजों को सर्जरी डिलीवरी या अन्य आपातकालीन ट्रीटमेंट मुहैया कराने के पहले कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट की बाध्यता खत्म करने को कहा गया है. नई गाइडलाइंस कहती है कि अगर मरीज में कोरोना संक्रमण के कोई लक्षण नहीं है तो अस्पताल को कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट का इंतजार किए बगैर इलाज शुरू करना होगा. इलाज के दायरे में सर्जरी, डिलीवरी और अन्य आपातकालीन चिकित्सा आएगी.

अस्पतालों को जारी की गई नई एडवाइजरी के मुताबिक बगैर कोरोना लक्षण वाली गर्भवती महिलाओं को जब तक जरूरत ना हो कोविड टेस्ट के लिए नहीं कहा जाएगा.

नई गाइडलाइंस में अस्पताल या होम आइसोलेशन में रहकर इलाज कर रहे कोरोना संक्रमित मरीजों के डिस्चार्ज संबंधी नियमों में भी व्यापक बदलाव किए गए हैं. संक्रमित कोविड केयर सेंटर या कोविड अस्पताल से 5 दिन के बाद डिस्चार्ज कर दिया जाएगा, बशर्ते संबंधित संक्रमित व्यक्ति पिछले 3 दिनों से लगातार कोई लक्षण नहीं दिखा रहा हो. ऐसे व्यक्ति को डिस्चार्ज के वक्त रैपिड या RT-PCR टेस्ट कराने की जरूरत नहीं होगी.

अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद मरीज को 2 दिनों तक होम आइसोलेशन में रहना होगा. पहले यह समय सीमा 7 दिनों की थी.

दो दिन के होम आइसोलेशन के वक्त अगर कोरोना के लक्षण फिर से नजर आते हैं तो मरीज अपने निकटतम स्वास्थ्य केंद्र में जाकर जांच करा सकता है या फिर 104 को कॉल कर सकता है. दूसरे शब्दों में 7 दिनों के बाद किसी भी संक्रमित व्यक्ति को अब ठीक हुआ मान लिया जाएगा.

इसी प्रकार घर में रहकर इलाज कराने वाले व्यक्ति को भी 7 दिनों के बाद ठीक हुआ माना जाएगा, अगर उसमें कोरोना के कोई लक्षण ना दिखाई देते हो. इसके लिए पहले की तरह अलग से टेस्ट कराने की जरूरत अब नहीं होगी.

%d bloggers like this: