जब आसमान में टकराने से बचे विमान, खतरे में थी 400 की जान; कैसे टला हादसा

थर्ड आई न्यूज

बेंगलुरु I बेंगलुरु हवाई अड्डे पर बड़ा हादसा टल गया। नौ जनवरी की सुबह एयरपोर्ट पर उड़ान भरने के तुरंत बाद इंडिगो के दो विमानों के बीच हवा में टक्कर होते होते बच गई। विमानन नियामक डीजीसीए के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि घटना को किसी लॉगबुक में दर्ज नहीं किया गया था और न ही भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने इसकी सूचना दी थी। रिपोर्ट के मुताबिक दोनों फ्लाइटों में करीब 400 लोग सवार थे।

इस बीच, नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) प्रमुख अरुण कुमार ने बताया कि विमानन नियामक घटना की जांच कर रहा है और दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा। इंडिगो और एएआई का इस मामले अभी तक कोई जवाब नहीं आया है। डीजीसीए के अधिकारियों ने कहा कि इंडिगो के दो विमान- 6ई455 (बेंगलुरु से कोलकाता) और 6ई246 (बेंगलुरु से भुवनेश्वर) विमान अलगाव के उल्लंघन में शामिल थे।

अलगाव का उल्लंघन तब होता है जब दो विमान किसी हवाई क्षेत्र में न्यूनतम अनिवार्य ऊर्ध्वाधर या क्षैतिज दूरी को पार कर लेते हैं। अधिकारियों ने बताया कि इन दोनों विमान ने नौ जनवरी की सुबह करीब पांच मिनट के अंतराल में बेंगलुरू हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी। एक अधिकारी ने कहा, ‘प्रस्थान के बाद दोनों विमान एक दूसरे की ओर बढ़ रहे थे। ‘अप्रोच रडार कंट्रोलर’ ने डायवर्जिंग हेडिंग का संकेत दिया जिससे दोनों विमानों के बीच हवा में टक्कर टल गई।’

%d bloggers like this: