कर्नाटक में बढ़ता हिजाब विवाद:श्रीराम सेना प्रमुख बोले-बुर्का या हिजाब पहनना है तो पाकिस्तान जाएं, हाईकोर्ट 8 फरवरी को करेगा सुनवाई

थर्ड आई न्यूज

बंगलुरू I उडुपी के स्कूल से शुरू हुआ हिजाब विवाद पूरे कर्नाटक में फैल गया है। मामले को लेकर छात्राओं ने हाईकोर्ट में याचिका लगाते हुए कहा है कि इस्लाम में हिजाब अनिवार्य है, इसलिए उन्हें इसकी अनुमति दी जाए। वहीं हुबली में श्रीराम सेना के प्रमोद मुतालिक ने कहा है कि क्या आप भारत को पाकिस्तान या अफगानिस्तान बना रहे हैं? अगर बुर्का या हिजाब की मांग कर रहे हैं तो आप पाकिस्तान जा सकते हैं।

इस मामले में मुस्लिम स्टूडेंट की याचिका पर कर्नाटक हाईकोर्ट 8 फरवरी को सुनवाई करेगा। गुरुवार को जस्टिस कृष्णा एस दीक्षित की बेंच ने यह आदेश जारी किया।

यह है पूरा मामला :
कर्नाटक में हिजाब विवाद जनवरी 2022 में शुरू हुआ था, जब उडुपी के प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज ने हिजाब पहनने के कारण 7 लड़कियों को क्लास में जाने से रोक दिया था। इसके बाद इन लड़कियों ने कर्नाटक हाईकोर्ट में एक याचिका दायर कर यह कहते हुए विरोध प्रदर्शन शुरू किया था कि हिजाब पहनने की परमीशन न देना संविधान के अनुच्छेद 14 और 25 के तहत उनके मौलिक अधिकार का हनन है I हालांकि उडुपी के विधायक और कॉलेज डेवलपमेंट कमेटी के अध्यक्ष के. रघुपति भट ने हिजाब पहनने के लिए प्रदर्शन कर रहीं छात्राओं के साथ बैठक के बाद कहा था कि शिक्षा विभाग के फैसले के तहत मुस्लिम स्टूडेंट्स को हिजाब पहनकर क्लास में एंट्री नहीं मिलेगी।

शिवमोगा में खत्म हुआ प्रदर्शन :
कर्नाटक में शिवमोग्गा जिले के भद्रावती के सरकारी डिग्री कॉलेज में मुस्लिम छात्राओं ने हिजाब पहने बिना ही क्लास अटैंड की। गुरुवार को हिजाब पहनकर कैंपस में आने वाली लड़कियों को क्लास में जाने से पहले वेटिंग रूम में इसे हटाने के लिए कहा गया। प्रिंसिपल एमजी उमाशंकर ने छात्रों और उनके पेरेंट्स से चर्चा के बाद कहा कि मुद्दा सुलझ गया है। विरोध कर रहीं लड़कियों को आंदोलन वापस लेने के लिए राजी कर लिया। वे क्लास में हिजाब नहीं पहनेंगी।

हिजाब के विरोध में भगवा पहन रहे स्टूडेंट्स :
जनवरी में चिकमंगलूर के कुछ स्टूडेंट्स ने कैंपस में हिजाब पहनने वाली लड़कियों के खिलाफ विरोध दर्ज कराने के लिए भगवा शॉल पहनना शुरू कर दिया था। यह मामला अब पूरे राज्य में फैल चुका है। मंगलवार को कई छात्रों ने धरना भी दिया था। हिजाब बनाम भगवा गमछा बन चुका यह विरोध अब तक हुबली, उडुपी, कुंडापुर के स्कूल और कॉलेज में सामने आ चुका है। जहां हिजाब के विरोध में स्टूडेंट्स भगवा शॉल या गमछा पहनकर कैंपस में आ रहे हैं।

3 साल पहले भी हुआ था हिजाब विवाद :
करीब 3 साल पहले भी हिजाब को लेकर स्कूल में विवाद हुआ था। तब फैसला लिया गया था कि कोई हिजाब पहनकर नहीं आएगा। पिछले कुछ दिनों से स्टूडेंट्स हिजाब पहनकर स्कूल आने लगीं। इसका विरोध करते हुए कुछ स्टूडेंट्स ने भगवा पहनने का फैसला किया। हालांकि स्कूल मैनेजमेंट भी इन छात्राओं से कई बार हिजाब नहीं पहनने को कह चुका था, लेकिन वे नहीं मानीं।

%d bloggers like this: