लोसल नगरधणी बाबा परमहँस परमानन्द जी की पुण्यतिथि आज, गुवाहाटी के
विनायक एंक्लेव में महोत्सव

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी I महानगर के SC Road आठगावं के श्री विनायक एनक्लेव निवासी राजेन्द्र उपाध्याय के निवास पर आज यानी बुधवार को प्रात:स्मरणीय सिद्ध योगी परमहँस बाबा परमानंद की ७०वी पुण्यतिथि मनाई जाएगी I महोत्सव का श्रंगार और समवेत स्वरों में रात्रि 7 बजे नित्य आरती पश्चात भक्ति संध्या मे आमंत्रित कलाकार परमहँस के पावन श्रीचरणों में भजनों की गंगा बहायेंगे। इस मौके पर रात 8 बजे से गुरूप्रसादी भी होगी I

नगरधणी की महिमा – विशेषता : अपने तप और योग साधना से सैकड़ो लोगों का कल्याण कर क्षेत्र/नगर मे घर- घर पूजित परमहँस बाबा को नगर देवता माना जाता है।मात्र १० वर्ष की अल्पायु में सांसारिक मोह माया छोड़कर वैराग्य लिया।गुरू रामानंद से दीक्षा लेकर १२ वर्ष लोहार्गल व झाड़ली तलाई में कठोर साधना की।आपकी वचनसिद्धि के कायल जोधपुर व जयपुर नरेश समय – समय पर योगीराज के दर्शनों को आते रहते थे ।दांता ठाकुर राजश्री मदनसिंह तो आपके अनन्य भक्त थे।बाबा परमानंद रात दिन तम्बाकू के दातुन मे लीन रहते।कभी किसी ने उन्हें पूर्ण निद्रा मे नहीं देखा ।।मंदिरो में बहुधा विपरीत दिशा मे परिक्रमा करते, जब मन होता नगर परिक्रमा करने लग जाते।असाध्य रोग से पीड़ित हो, आर्थिक कष्ट हो या किसी प्रकार मानसिक तनाव, बाबा की समाधि पर मत्था टेकने और सच्चे मन से प्रार्थना करने पर बाबा सभी के संकट हरते है। भक्तों पर कृपा बरसाते हैं ।श्रद्धाभाव रखने वालों के मन मे प्रबल आस्था है कि बाबा सुखों के सागर हैं ।आपके प्रति सच्ची आस्था रखने वाले वंश पुत्र धन कीर्ति और कारोबार में फलीभूत चाहे वो देश प्रदेश मे कहीं भी प्रवास नौकरी व्यापार करे, सब कुछ छोड़कर पुण्यतिथि पर समाधि पर मत्था टेकने पहुंच ही जाते है।

%d bloggers like this: