चीन के कर्ज के जाल में फंसा श्रीलंका, भारत से बढ़ा रहा नजदीकियां; जानें क्या है वजह

थर्ड आई न्यूज

कोलंबो । चीन के चार अरब 50 करोड़ अमेरिकी डालर के ऋण को चुकाने में विफल होने के बाद श्रीलंका की भारत के साथ नजदीकियां बढ़ती नजर आ रही हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि वह भारत से यह ऋण चुकाने में मदद की उम्मीद कर रहा है। हाल ही में फिच रेटिंग्स और मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस द्वारा श्रीलंका की क्रेडिट रेटिंग को भी डाउनग्रेड कर दिया गया है। वर्तमान समय में श्रीलंका की आर्थिक स्थिति काफी बदतर हो गई है।

वहीं, इससे पहले 17 जनवरी को श्रीलंका ने चीन से मामले में थोड़ी राहत मांगी थी। श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी से कहा था कि यह देश के लिए एक बड़ी राहत होगी यदि देश में कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न आर्थिक संकट के समाधान के रूप में ऋण चुकाने के लिए एक बार फिर से गौर किया जाए। हालांकि, चीनी विदेश मंत्रालय ने श्रीलंकाई राष्ट्रपति के इस अनुरोध को खारिज करते हुए कहा, श्रीलंका निश्चित रूप से जल्द से जल्द अस्थायी कठिनाइयों को दूर करने में सफलता हासिल करेगा।

पिछले कुछ हफ्तों में, श्रीलंका को अपने ईंधन आयात बिलों का भुगतान करने के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा था। हाल ही में, भारत ने श्रीलंका के विदेश मंत्री जीएल पेइरिस की 6 से 8 फरवरी तक भारत की दो दिवसीय आधिकारिक यात्रा के बाद श्रीलंका को दो अरब 40 करोड़ अमरीकी डालर की वित्तीय सहायता प्रदान की थी।

%d bloggers like this: