यूक्रेन संकट के बीच रूस ने की भारत से अपील, बोला- उम्मीद है कि हमारी दोस्ती कायम रहेगी

थर्ड आई न्यूज

मास्को/कीव/वाशिंगटन I
यूक्रेन और रूस के बीच हालात बिगड़ते ही जा रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, रूस ने यूक्रेन की सीमा में घुसने और दो शहरों डोन्त्सक और लुहांस्क पर कब्जा करने के लिए रूसी सैनिक भेज दिए हैं। 100 से ज्यादा मिलिट्री ट्रक यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर में घुस चुके हैं। तो उधर, पुतिन ने यूक्रेन की सीमा पर तैनात सैनिकों के लिए चिकित्सीय सहायता भी भेजनी शुरू कर दी है। वहीं अमेरिका ने भी बाल्टिक देशों में अपने सैनिक व हथियार भेजने शुरू कर दिए हैं। व्हाइट हाउस का कहना है कि, अगर पुतिन युद्ध नहीं करना चाहते हैं, तो वह सैनिकों के लिए अतिरिक्त रक्त और चिकित्सीय सहायता के आदेश क्यों दे रहे हैं I

रूस ने भारत से की अपील :
यूक्रेन पर आक्रामक रुख अख्तियार किए रूस पर यूरोपीय देश एक के बाद एक कड़े प्रतिबंध लगा रहे हैं। इस बीच रूस ने भारत से दोस्ती की अपील की है। बुधवार को भारत में रूसी दूतावास की ओर से कहा गया कि, हमें उम्मीद है कि हमारी साझेदारी उसी स्तर पर आगे भी जारी रहेगी, जैसी की आज के समय में है। दूतावास ने कहा कि, विशेष रूप से दिसंबर 2021 में हाल के रूसी-भारतीय द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के परिणामों पर एक नज़र डाली जाए। हमनें रक्षा क्षेत्र में 10 साल के सहयोग कार्यक्रम पर हस्ताक्षर किए हैं। हमारे पास एक बड़ी पाइपलाइन योजना है। हमें पूरा विश्वास है कि सभी योजनाएं सफलतापूर्वक लागू होंगी।

डोन्त्सक और लुहांस्क ने आधिकारिक मान्यता के लिए किया आवेदन :
डोन्त्स्क और लुहांस्क को स्वतंत्र देश घोषित किए जाने के बाद आज दोनों की ओर से अधिकारिक मान्यता के लिए रूस में आवेदन भी कर दिया गया। दिल्ली में रूसी दूतावास के उप प्रमुख ने बताया कि डोन्त्स्क और लुहांस्क की ओर से आधिकारिक रूप से आवेदन किया गया है, लेकिन शुरू से ही अमेरिका ने यूक्रेन सेहित सोवियत संघ के देशों के घरेलू मामलों में दखल दी है।

24 घंटे के अंदर यूक्रेन पर रूस करेगा बड़ा हमला- ऑस्ट्रेलिया
रूस-यूक्रेन संघर्ष के बीच ऑस्ट्रेलिया ने दावा किया है कि अगले 24 घंटे में यूक्रेन पर बड़ा हमला संभावित है। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने बुधवार को चेतावनी देते हुए कहा कि, रूस यूक्रेन पर पूर्ण रूप से आक्रमण कर सकता है। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने अपना विरोध व्यक्त करते हुए रूस के राजदूतों काे बुलाया है।

पुतिन ने भेजे 10 हजार से ज्यादा सैनिक :
खबरों के मुताबिक, रूस के राष्ट्रपति पुतिन, यूक्रेन के दोनों शहर डोन्त्सक और लुहांस्क में अलगाववादियों की मदद के लिए 10 हजार से ज्यादा सैनिक भेज चुके हैं। वहीं यूक्रेन खुफिया विभाग का मानना है कि डोन्त्सक में पांच हजार तो लुहांस्क में भी पांच हजार सैनिक भेजे गए हैं। इसके अलावा हॉर्लीव्का में 1500 से ज्यादा सैनिक भेजे गए हैं।

यूक्रेन के शहर खार्किव में घुसी रूस की फौज :
अमेरिका-यूरोप के बढ़ते प्रतिबंधों और जमीन पर कब्जे की आशंका के बीच यूक्रेन के खार्किव शहर में रूसी फौज घुस चुकी है। डेली मेल के मुताबिक, 100 से ज्यादा मिलिट्री ट्रक और सैनिक खार्किव शहर पहुंच चुके हैं। खार्किव, यूक्रेन का दूसरा सबसे बड़ा शहर है और यह सीमा के सबसे नजदीक है। पश्चिमी देशों के विश्लेषण के मुताबिक, रूस के सैनिक सबसे पहले इस शहर को ही टारगेट करेंगे।

पुतिन के इस कदम ने बढ़ाई बड़े हमले की आशंका :
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन की सीमा पर तैनात सैनिकों के लिए चिकित्सा आपूर्ति के खून के भंडारण के आदेश दिए हैं। इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि, अगर पुतिन बड़े हमले की तैयारी नहीं कर रहे हैं, तो उन्हें खून और चिकित्सा आपूर्ति की जरूरत क्यों पड़ गई।

%d bloggers like this: