मालदीव में हिंसक भीड़ ने योग सत्र को बनाया निशाना, राष्ट्रपति सोलिह ने दिए जांच के आदेश

थर्ड आई न्यूज

नई दिल्ली l अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर मालदीव की राजधानी माले में योग दिवस समारोह को निशाना बनाया गया है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारतीय सांस्कृतिक केंद्र ने युवा, खेल और सामुदायिक अधिकारिता मंत्रालय के सहयोग से सुबह 06:30 बजे से योग सत्र का आयोजन किया था। हिंसक प्रदर्शनकारियों ने इस योग सत्र पर धावा बोलकर बाधित कर दिया।

यह कार्यक्रम मालदीव नेशनल फुटबॉल स्टेडियम में आयोजित किया जा रहा था। उग्र प्रदर्शनकारियों ने योग सत्र में भाग ले रहे लोगों से जल्द से जल्द स्टेडियम खाली करने को कहा था। भीड़ द्वारा योग सत्र में भाग ले रहे लोगों को धमकी भी दी गई।

हालात को देखते हुए मालदीव पुलिस ने गुस्साए भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामले को लेकर अब तक छह प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है। मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने योग दिवस समारोह पर हिंसक प्रदर्शन की जांच की घोषणा की है।

योग का मतलब सूर्य पूजा मानते हैं मालदीव के इस्लामिक स्कॉलर्स :
मालदीव में पिछले कुछ दिनों से भारत के विरोध में प्रदर्शन तेज हुए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मालदीव के कुछ इस्लामिक स्कॉलर्स का मानना है कि योग करना ‘सूर्य पूजा या एक देवता के रूप में सूर्य का प्रतिनिधित्व’ के बराबर है। ऐसे में मालदीव के मुस्लिमों को योग नहीं करना चाहिए और सिर्फ अल्लाह में यकीन रखना चाहिए।

%d bloggers like this: