बाढ़ झेल रहे असम में शिवसेना के बागियों का जमावड़ा, सीएम बोले- सभी का स्वागत, इससे हमें मिलेगा राजस्व

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी I महाराष्ट्र में जारी सियासी उठापटक के बीच शिवसेना के बागी विधायक गुजरात के सूरत से असम पहुंच गए है। बागी मंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में ये सभी विधायक राजधानी गुवाहाटी के एक लग्जरी होटल में ठहरे हैं। बागी विधायकों के असम पहुंचने के बाद सीएम हिमंत विश्व शर्मा ने ट्वीट करके उनका स्वागत किया है। सीएम ने बुधवार को ट्वीट किया कि वह असम की यात्रा के लिए सभी का स्वागत करते हैं।

हमें मिलेगा राजस्व :
गुवाहाटी में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान सीएम हिमंत ने कहा कि गुवाहाटी में कई लग्जरी होटल हैं और अगर कमरे भरे हुए हैं, तो हमें खुश होना चाहिए क्योंकि इससे राजस्व आएगा। उन्होंने कहा कि हमें जीएसटी के माध्यम से राजस्व मिलेगा। राज्य में विनाशकारी बाढ़ के इन कठिन समय के दौरान हमें इसकी आवश्यकता होगी।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि शिवसेना विधायकों की यात्रा के संबंध में किसी भी विवाद का कारण क्यों होना चाहिए? हम सभी पर्यटकों का राज्य में आने का स्वागत करते हैं क्योंकि हमें बाढ़ से निपटने के लिए धन की आवश्यकता है। हमें देवी लक्ष्मी को क्यों दूर करना चाहिए जबकि बाढ़ के कारण इस दौरान हमारे होटल खाली हैं।

महाराष्ट्र के असंतुष्ट विधायकों से मिलने से किया मना :
यह पूछे जाने पर कि क्या वह महाराष्ट्र के असंतुष्ट विधायकों से मिलेंगे, शर्मा ने कहा कि उन्हें ऐसा करने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि अगर राज्य एक अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक केंद्र बन जाता है तो मुझे खुशी होगी। मैं सभी से राज्य का दौरा करने का आग्रह करता हूं।

बाढ़ झेल रहा है असम :
मुख्यमंत्री ने आगे बताया कि वह बाढ़ की स्थिति से निपटने में व्यस्त हैं। वे बुधवार को नगांव और गुरुवार को सिलचर का दौरा करेंगे। बता दें कि पूर्वोत्तर राज्य के 32 जिलों में कुल 55 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। यहां आपदा के कारण 89 नागरिकों की जान चली गई है।

बुधवार सुबह गुवाहाटी पहुंचे थे विधायक :
गौरतलब है कि महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान के बीच शिवसेना के बागी विधायक बुधवार सुबह सूरत से चार्टर विमान से असम पहुंचे थे। इसके बाद उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच गुवाहाटी के बाहरी इलाके में स्थित एक लग्जरी होटल में ले जाया गया।

असम पहुंचने के बाद एकनाथ शिंदे ने दावा किया है कि उनके पास 46 विधायकों का समर्थन है। यह पूछे जाने पर कि वे गुवाहाटी क्यों आए थे, शिंदे ने कहा, यह एक अच्छी जगह है। गौरतलब है कि यह शायद पहली बार है कि पश्चिम भारतीय राज्य के विधायकों को पार्टी नेतृत्व के खिलाफ विद्रोह के बाद पूर्वोत्तर राज्य में ले जाया जा रहा है।

%d bloggers like this: