सीएम हिमंत ने मनीष सिसोदिया के खिलाफ किया मानहानि केस, पीपीई घोटाले के लगाए थे आरोप

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी I असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के खिलाफ आपराधिक मानहानि का केस दायर किया है। पिछले माह सिसोदिया ने असम में पीपीई किट घोटाले के आरोप लगाए थे।

सिसोदिया ने आरोप लगाया था कि असम सरकार ने सीएम हिमंत की पत्नी की फर्म व उनके बेटे के व्यावसायिक साझेदार कंपनी को पीपीई किट की आपूर्ति का ठेका दिया था। यह केस असम के कामरूप ग्रामीण जिले की सीजेएम कोर्ट में दायर किया गया है। सिसोदिया ने यह भी आरोप लगाया था कि कोरोना महामारी के दौरान वर्ष 2020 में पीपीई किट्स की आपूर्ति का आर्डर बाजार से ज्यादा कीमतों पर उक्त कंपनियों को दिया गया था।

हिमंत के वकील देवजीत सैकिया ने कहा कि सिसोदिया द्वारा लगाए गए सारे आरोप झूठे हैं। पीपीई किट बनाने वाली उनकी कंपनी ने कभी कोई बिल नहीं दिया। उस समय, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने पीपीई व्यवसाय से जुड़े लोगों से किट आपूर्ति करने का अनुरोध किया था। उक्त कंपनी ने अपने सीएसआर के हिस्से के रूप में 1500 पीपीई किट की आपूर्ति निःशुल्क की थी। उन्होंने कहा कि पीपीई किट की आपूर्ति को लेकर सिसोदिया ने शर्मा के खिलाफ भ्रष्टाचार के आधारहीन आरोप लगाए। ये आपूर्ति कोरोना की पहली लहर के दौरान पीपीई किट की भारी कमी के बीच की गई थी। सैकिया ने कहा कि मामला गुरुवार को कामरूप ग्रामीण के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में दायर किया गया। शिकायतकर्ता के प्रारंभिक बयान 22 जुलाई को दर्ज किए जाएंगे।

जेसीबी इंडस्ट्रीज की मालिक हैं रिंकी शर्मा :
यह मामला जेसीबी इंडस्ट्रीज द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, असम को कोविड-19 की पहली लहर के दौरान बाजार दरों से अधिक पर पीपीई किट की आपूर्ति के आरोप से संबंधित है। जेसीबी इंडस्ट्रीज सीएम हिमंत की पत्नी रिंकी शर्मा के सह-स्वामित्व की है। 4 जून को नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में सिसोदिया ने हिमंत विश्व शर्मा के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। सैकिया ने दावा किया कि पीपीई किट जेसीबी इंडस्ट्रीज ने दान किए थे।

%d bloggers like this: