जगन्नाथ रथ यात्रा में उमड़ा आस्था का सैलाब, नीलांचल सेवा समिति के भंडारे में भारी संख्या में लोगों ने अन्न सेवा का उठाया लाभ

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी /पुरी. जगन्नाथपुरी में आज रथ यात्रा के मौके पर आस्था का सैलाब उमड़ा. भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भाई बलराम और बहन सुभद्रा के रथो के आगे पीछे भारी संख्या में जय जगन्नाथ का उद्घोष करते लोग नजर आए. एक अनुमान के मुताबिक रथ यात्रा में 10 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने भाग लिया. उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष रथ से यात्रा करके भगवान जगन्नाथ अपने भाई और बहन के साथ अपनी मौसी के घर जाते हैं और वहां से 9 दिन बाद वापस लौटते हैं. उनकी वापसी यात्रा को बावड़ा यात्रा कहा जाता है.

उल्लेखनीय है कि पिछले 2 वर्षों से कोविड के चलते रथ यात्रा में जनसाधारण को भाग लेने की अनुमति नहीं थी. यात्रा की विधि विधान से धार्मिक मान्यताओं के अनुसार औपचारिकताएं पूरी की गई थी. लिहाजा इस वर्ष अन्य वर्षो के मुकाबले यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में ज्यादा उत्साह दिखा.

वहीं दूसरी ओर रथ यात्रा के दौरान गुवाहाटी की नीलांचल सेवा समिति के भंडारे में आज भारी संख्या में श्रद्धालुओं ने अन्न सेवा का लाभ उठाया. गौरतलब है कि नीलांचल सेवा समिति के इस वर्ष पुरी में दो भंडारे चले. समिति के संयोजक अमित तापड़िया ने बताया कि स्थानीय प्रशासन के अनुरोध पर इस वर्ष एक और भंडारा लगाया गया. दूसरा भंडारा ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के संगठन ओडिशा मो परिवार के साथ संयुक्त रूप से लगाया गया था. तापड़िया ने बताया कि गुवाहाटी से उनके साथ दो दिवसीय भंडारे में अपनी सेवा देने के लिए 12 लोगों का एक जत्था पुरी पहुंचा था. इसके अलावा भारी संख्या में स्थानीय स्वयंसेवकों ने भी भंडारे को सफल बनाने में अपना योगदान दिया. उन्होंने बताया कि उनके भंडारे में प्रसाद के रूप में वही सामग्री परोसी गई जो भगवान जगन्नाथ के छप्पन भोग में शामिल होती है.

%d bloggers like this: