काली’ विवाद पर बोलीं टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा, मांस-मदिरा स्वीकार करने वाली देवी

थर्ड आई न्यूज

कोलकाता I डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘काली’ के पोस्टर पर शुरू हुआ विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। यह तब हुआ जब फिल्म के पोस्टर में हिंदुओं की देवी ‘काली’ को सिगरेट पीते हुए दिखाया गया है। अब इस मुद्दे पर तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने प्रतिक्रिया देते हुए न सिर्फ पोस्ट का बचाव किया बल्कि अपना स्टैंड भी बताया। उन्होंने कहा कि मेरे लिए काली एक मांस खाने वाली और शराब पीने वाली देवी के रूप में है।

दरअसल, तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा कि मेरे लिए काली का मतलब मांस प्रेमी और शराब स्वीकार करने वाली देवी है। लोगों की अलग अलग राय होती है, मुझे इसे लेकर कोई परेशानी नहीं है। हिंदू होते हुए भी मुझे मेरी काली को मेरे हिसाब से देखने की आजादी है और लोगों को भी होनी चाहिए। आपको अपने भगवान को अपने हिसाब से पूजने की आजादी होनी चाहिए।

मोइत्रा ने यह भी कहा कि अगर आप भूटान और सिक्किम जाएं तो वहां पूजा में भगवान को व्हिस्की चढ़ाई जाती है, लेकिन यही आप उत्तर प्रदेश में किसी को प्रसाद में दे दो तो उसकी भावना आहत हो सकती है। उन्होंने तारापीठ का जिक्र करते हुए कहा कि आप अगर वहां जाएं तो काली के मंदिर के पास साधू आपको स्मोकिंग करते हुए मिलेंगे।

महुआ मोइत्रा की यह प्रतिक्रिया तब सामने आई है जब फिल्म ‘काली’ के एक पोस्टर में हिंदुओं की देवी मां काली को सिगरेट पीते हुए दिखाया गया है। इतना ही नहीं उनके एक हाथ में त्रिशूल तो दूसरे हाथ में एलजीबीटी समुदाय का सतरंगा झंडा दिखाया गया है। इन्हीं दो चीजों पर विवाद हो रहा है। सोशल मीडिया पर लोग इस फिल्म के फिल्ममेकर लीना मणिमेकलई पर भड़के हुए हैं। कई लोग लीना मणिमेकलई को अरेस्ट करने की मांग भी कर रहे हैं।

उधर अब दिल्ली पुलिस ने इस मामले में एक केस दायर किया है। दिल्ली पुलिस की तरफ से बताया गया है कि ‘काली’ फिल्म से संबंधित एक विवादास्पद पोस्टर के संबंध में केस दर्ज किया गया है। इस मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 153A और 295A के तहत केस दर्ज किया गया है।

%d bloggers like this: