असम में बाढ़ के बाद अब जापानी इंसेफेलाइटिस का कहर, एक महीने में ही 13 की ली जान, 115 मामले आए सामने

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी I चिरांग, हैलाकांडी, मोरीगांव, नगांव, शिवसागर और तामूलपुर जिलों में अब भी करीब 2,92,200 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। कछार सबसे बुरी तरह प्रभावित है, जहां 1.68 लाख से अधिक लोग बाढ़ से जूझ रहे हैं। इसके बाद मोरीगांव में 1.13 लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं।
गुवाहाटी: असम में बाढ़ के बाद अब जापानी इंसेफेलाइटिस (जेई) कहर बरपा रहा। मंगलवार को जेई तीन और लोगों की जान ले ली। इस महीने अब तक इससे 13 लोगों की मौत हो गई है। मंगलवार को राज्य में जेई के कुल 17 नए मामले सामने आए। इस तरह इस महीने अब तक कुल 115 मामले सामने आ चुके हैं।

जेई के कारण हुई तीन मौतों में जोरहाट से दो और गोलाघाट से एक मौत शामिल है। अधिकारियों ने कहा कि ताजा मामलों में जोरहाट के छह, शिवसागर के तीन, नगांव, धेमाजी और सोनितपुर के दो-दो, धुबरी और कामरूप (मेट्रो) के एक-एक मामले शामिल हैं। राज्य में सोमवार को दो मौतें और 12 नए जेई मामले सामने आए थे। प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) अविनाश जोशी ने सभी जिलों को अपने संबंधित उपायुक्तों के मार्गदर्शन में 16 जुलाई तक एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) और जेई पर जिला रैपिड रिस्पांस टीम बनाने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि एईएस/जेई मामले का पता लगाने, प्रबंधन और रेफरल के लिए सभी जिले राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, असम के बताए गए मानक प्रक्रियाओं और दिशानिर्देशों का पालन करेंगे।

सात जिलों में 2.92 लाख से अधिक लोग अब भी बाढ़ से प्रभावित :
असम में बाढ़ की स्थिति में मंगलवार को काफी सुधार हुआ। हालांकि सात जिलों में 2.92 लाख से अधिक लोग अब भी बाढ़ से प्रभावित हैं। एक आधिकारिक बुलेटिन में यह जानकारी दी गई।असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की दैनिक बाढ़ रिपोर्ट के अनुसार, असम में अभी कोई नदी खतरे के निशान से ऊपर नहीं बह रही है और दिन के दौरान डूबने की कोई घटना नहीं हुई है। इस साल बाढ़ और भूस्खलन में 192 लोगों की मौत हुई है।

एएसडीएमए ने कहा कि कछार, चिरांग, हैलाकांडी, मोरीगांव, नगांव, शिवसागर और तामुलपुर जिलों में अब भी करीब 2,92,200 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। कछार सबसे बुरी तरह प्रभावित है, जहां 1.68 लाख से अधिक लोग बाढ़ से जूझ रहे हैं। इसके बाद मोरीगांव में 1.13 लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं और नगांव में लगभग 7,450 लोग प्रभावित हैं। राज्य के 10 जिलों में आई बाढ़ से सोमवार तक 3.79 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए थे।

एएसडीएमए ने कहा कि वर्तमान में, 642 गांव जलमग्न हैं और पूरे असम में 1,514.92 हेक्टेयर खेत की फसल नष्ट हो गई है। एएसडीएमए ने कहा कि अधिकारी पांच जिलों में 83 राहत शिविर और वितरण केंद्र चला रहे हैं, जहां 5,004 बच्चों सहित 19,237 लोग शरण लिए हुए हैं। अधिकारियों ने पिछले 24 घंटों के दौरान 375.68 क्विंटल चावल, दाल और नमक, 1,649.16 लीटर सरसों का तेल और अन्य बाढ़ राहत सामग्री वितरित की।

बारपेटा, बोंगाईगांव, कामरूप, मोरीगांव, नलबाड़ी, तामुलपुर, तिनसुकिया और उदलगुरी जिलों में बड़े पैमाने पर कटाव देखा गया है। बारपेटा, कामरूप, नगांव, डिब्रूगढ़, नलबाड़ी, उदलगुरी और करीमगंज में बाढ़ के पानी से तटबंध, सड़कें, पुल और अन्य बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचा है। एएसडीएमए ने कहा कि मोरीगांव और नगांव जिलों में आई बाढ़ से कुल 73,657 मवेशी और पोल्ट्री प्रभावित हुए हैं।

%d bloggers like this: