श्रावण कावड़ महोत्सव: आसाम धर्मशाला के सेवा शिविर का उद्घाटन

थर्ड आई न्यूज

हड़खार,गुड़ियारी (बिहार). बैधनाथ असम कावड़िया सेवा समिति के सेवा शिविर का आज आसाम धर्मशाला में विधिवत उद्घाटन किया गया. उल्लेखनीय है कि समिति द्वारा हर वर्ष सावन महीने में वैद्यनाथ धाम तक कावड़ ले जाने वालों के लिए सेवा शिविर का आयोजन किया जाता है. इस वर्ष शिविर एवं नवनिर्मित मंदिर का उद्घाटन
अंशुल कुमार बांका, जिला प्रमुख एवं डॉ सत्यप्रकाश, पुलिस अधीक्षक के द्वारा किया गया. इस मौके पर प्रखंड जिला पदाधिकारी,गौरीपुर जिला मुखिया प्रमोद मंडल सहित पुलिस के कई अन्य अधिकारी भी मौजूद थे. इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष पीतराम केड़िया ने डीएम को एवं सुरेन्द्र गोयल ने पुलिस अधीक्षक को असमिया सांस्कृतिक परंपरा के प्रतीक झापी पहनाकर स्वागत किया. डीएम अंशुल बांका ने आसाम धर्मशाला का निरीक्षण कर वहां श्रद्धालुओं के लिए उपलब्ध सेवाओं की भूरि- भूरि प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि कावड़ यात्रा के समूचे रास्ते में ऐसी धर्मशाला और व्यवस्था और कहीं नहीं है

उद्घाटन समारोह में
संस्था के उपाध्यक्ष गोपाल बजाज, महेंद्र मित्तल, प्रदीप भुवालका, सहसचिव माखनलाल अग्रवाल, कार्यकारिणी सदस्य भीष्म गुप्ता, दीपचंद गर्ग, शिव भीमसरिया, विनोद जिंदल,सरिता भीमसरिया, शारदा केड़िया, आशा जिंदल, प्रभाष पोद्दार, अनिल बागला, प्रियांश बजाज और सत्यनारायण शर्मा मौजूद थे.
इस मौके पर मंच का संचालन करते हुए समिति के निवर्तमान अध्यक्ष सांवरमल अग्रवाल ने बताया कि यह सेवा शिविर विगत 23 वर्षों से अपनी नि:शुल्क सेवा प्रदान करता आ रहा है. उन्होंने बताया कि शिविर में कावड़ियों के लिए नींबू चाय, शिकंजी, मालिश, एक्यूपंचर, प्रारंभिक चिकित्सा, शुद्ध पेयजल और सत्तू की व्यवस्था हैं. इसके अलावा डाक बम के लिए शिविर में अलग से विशेष व्यवस्था की गई है. यह सभी सेवाएं निःशुल्क हैं. उन्होंने बताया कि महीने भर चलने वाले इस शिविर में उपलब्ध सेवाओं का लाभ लाखों लोग उठाते हैं.

उल्लेखनीय है कि शिविर में सेवा प्रदान करने के लिए बैधनाथ असम कावड़िया सेवा समिति के सभी सदस्य वहां पर जा कर अपना बहुमूल्य समय देते है. पूर्वोत्तर वासियों के लिए गर्व की बात है कि आसाम धर्मशाला 105 किलोमीटर लंबे कावड़ पथ पर सबसे बड़ी धर्मशाला है. यह जानकारी समिति के मंत्री शंकर बिड़ला एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिए दी है.

%d bloggers like this: