भादी अमावस्या पर दादीमय हुआ नगांव, मंगलपाठ में लगे दादी के जयकारे

नगांव से डिंपल शर्मा

श्री राणीसती जी सत्संग समिति द्वारा भादी अमावस्या महोत्सव अपने दो दिवसीय आयोजन के साथ शहर के श्री हनुमान मंदिर भवन में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। समिति से जुड़े सदस्य मुकेश पोद्दार और संजय केजरीवाल द्वारा मिली संयुक्त जानकारी के मुताबिक इस दो दिवसीय कार्यक्रम का श्रीगणेश 26 अगस्त को आलौकिक श्रृंगार, दिव्य दरबार, अखंड ज्योत, गजरा उत्सव,चुंदड़ी उत्सव, मेहंदी उत्सव, सवामणी एवं छप्पन भोग के साथ किया गया। आयोजन के प्रथम दिन पूजा अर्चना कमल-बब्बन बंसल द्वारा संपन्न करवाई गई। शाम को माता के भव्य सजे दरबार में भजनों की अनुपम प्रस्तुति कोलकाता से आमंत्रित प्रसिद्ध भजन कलाकार बंटी शर्मा द्वारा दी गई। शर्मा द्वारा प्रस्तुत एक से बढ़कर एक भजनों की प्रस्तुति ने उपस्थित श्रोताओं का मन मोह लिया और सभी ने नाचते गाते हुए माता के दरबार में हाजिरी लगाई।आयोजन के दूसरे दिन पूजा-अर्चना ओमप्रकाश-उषा पोद्दार द्वारा संपन्न कराई गई। पूजा अर्चना के पश्चात दोपहर दो बजे से कार्यक्रम स्थल पर कोलकाता से आमंत्रित सूरज शर्मा और अनुराग बेदी द्वारा संगीतमय मंगल पाठ की प्रस्तुति दी गई।श्री राणी सती जी के अवतरण के साथ माता के जीवनी पर आधारित मंगल पाठ में देर शाम तक भक्त सैकड़ों की संख्या में बड़ी तादात के साथ मंगलपाठ करने में मग्न नजर आए। कथावाचक गायकों द्वारा प्रस्तुत नारायणी बोली अकुलाई, अपने गुरु को शीश नवाई…, यह क्या कर दिया दीनानाथा, बीच भंवर मत छोड़ो नाथा…एवं जय जय जय नारायणी माता, निश दिन तुमको शीष नमाता…आदि चौपाई व भजनों की प्रस्तुति दी और दादी भक्त भावविभोर होकर नाचनेे लगे। मंगल पाठ की समाप्ति के बाद भक्तों में प्रसाद वितरण किया गया। दोनों दिन माता के दरबार में भोग और प्रसाद की व्यवस्था के साथ दरबार का अलौकिक श्रृंगार,अखंड ज्योत, गजरा उत्सव,चुंदड़ी उत्सव, मेहंदी उत्सव मुख्य आकर्षण का केंद्र रहा।

इस अवसर पर समूचे भवन को दुल्हन की तरह सजाया गया। ध्यान देने योग्य है कि पिछले 2 वर्षों के दौरान कोरोना संक्रमण के चलते भादी अमावस्या पर कार्यक्रम बड़े रूप में नहीं हो पाया था। भादी अमवस्या के इस अवसर पर हैबरगांव में भी श्री पोद्दार मादल भवाणी समिति का कार्यक्रम मंगलपाठ, दादी की दिव्य ज्योत और प्रसाद के साथ संपन्न हुआ इस कार्यक्रम में भजनों की अनुपम प्रस्तुति प्रसिद्ध भजन गायक संजय पोद्दार द्वारा बहाई गई। हैबरगांव शांतिपुर स्थित नंदलाल भरतीया के निवास स्थान पर श्री ढांढण सती सत्संग समिति के तत्वधान में भादी अमवस्या का कार्यक्रम भी हर्षोल्लास के साथ संपन्न हुआ इस कार्यक्रम में समाजसेवी देवकीनंदन बजाज के साथ बड़ी संख्या में कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे भजनों की गंगा प्रसिद्ध भजन कलाकार अरुण नागरका द्वारा बहाई गई।कार्यक्रम के पश्चात भक्तों में माता का प्रसाद वितरण किया गया। इसके साथ ही श्री नारायणी सेवा समिति के तत्वाधान में श्री राणी सती दादी मंदिर ढाका पट्टी में भी भादी अमवस्या धूमधाम के साथ मनाई गई संगीतमय मंगलपाठ की प्रस्तुति निर्मला आलमपुरिया द्वारा दी गई।भव्य दरबार दिव्यज्योत मेहंदी उत्सव दादी जी का जन्म उत्सव बच्चियों द्वारा चुनरी नृत्य और दादी को नो तरह के गजरे अर्पण करना और कृष्ण रास लीला लोगों के बीच मुख्य आकर्षण का केंद्र रही।उल्लेखनीय है कि श्री राणीसती जी के अवतरण की कथा महाभारत के अभिमन्यु व उत्तरा की कथा से जुड़ी है. श्री कृष्ण के वरदान प्राप्ति के पश्चात कलयुग में श्री दुर्गा स्वरूपिणी श्री राणी सती जी की पूजा नारी शक्ति के रूप में त्रिशूल के रूप में की जाती है.ऐसी मान्यता है इस दिन पूजा व आराधना करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

%d bloggers like this: