“क्या हम देश की पांच राजधानियां बना सकते हैं? ” जानें, आखिर असम के सीएम ने क्यों रखा ऐसा प्रस्ताव

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी I असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने देश की पांच राजधानी रखने का प्रस्ताव दिया है. उन्होंने कहा कि हमे चाहिए कि हम हर जोन के आधार पर एक-एक राजधानी तय करें ताकि देश में क्षेत्रीय असमानता को खत्म किया जा सके. सीएम शर्मा ने अपने इस प्रस्ताव को लेकर ट्वीट भी किया है. उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा कि मैं बीते कुछ समय से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से बहस में लगा हूं, हालांकि केजरीवाल की अब आदत हो गई है कि वो दूसरे राज्यों का मजाक उड़ाएं. मैं चाहता हूं कि हमे अब असमानता नाम की बीमारी को दूर करने के लिए साथ मिलकर काम करना चाहिए. ना कि सिर्फ गरीब राज्यों का मजाक बनाते रहना चाहिए. क्या हम हर जोन के हिसाब से देश में पांच राजधानी बना सकते हैं?

बता दें कि बीते कुछ समय से असम के सीएम और दिल्ली के मुख्यमंत्री के बीच ट्वीट पर वार-पलटवार चलता रहा है. कुछ दिन पहले ही दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और असम के सीएम हिमंत विश्व शर्मा के बीच ट्विटर पर लड़ाई देखने को मिली थी. अरविंद केजरीवाल के कटाक्ष पर हिमंत ने ट्विटर पर लिखा कि प्रिय अरविंद केजरीवाल जी, हमेशा की तरह आपने बिना किसी होमवर्क के कुछ टिप्पणी की. शिक्षामंत्री के रूप में तब से अब तक कृपया ध्यान दें, असम सरकार ने 8610 नए स्कूलों की स्थापना की है. दिल्ली सरकार ने पिछले 7 वर्षों में कितने स्कूलों की स्थापना की है.इसका जवाब देते हुए अरविंद केजरीवाल ने लिखा था कि अरे, लगता है आप बुरा मान गए, मेरा मक़सद आपकी कमियां निकालने का नहीं था. हम सब एक देश हैं. हमें एक दूसरे से सीखना है, तभी तो भारत नम्बर वन देश बनेगा. मैं आता हूं ना असम, बताइए कब आऊँ? आप शिक्षा के क्षेत्र में अपने अच्छे काम दिखाना. आप दिल्ली आइये, मैं आपको दिल्ली के काम दिखाता हूं.

ये पूरा विवाद तब शुरू हुआ जब असम में रिजल्ट खराब आने पर 34 स्कूलों को बंद किए जाने की एक खबर पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने असम सरकार को शिक्षा में सुधार की सलाह दी. इस पर असम के मंत्री पीजूष हजारिका ने उनको तीखा जवाब दिया है. उन्होंने कहा है कि अरविंद केजरीवाल को शिक्षा के उत्थान पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका ‘दिल्ली स्कूल मॉडल’ फर्जी है. उन्होंने यह भी कहा है कि असम में कोई स्कूल बंद नहीं किया जा रहा है.

असम में परीक्षा परिणाम खराब आने पर 34 स्कूलों में तालाबंदी करने के राज्य सरकार के कथित फैसले को लेकर आई एक खबर पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया – ”स्कूल बंद करना समाधान नहीं है. हमें तो अभी पूरे देश में ढेरों नए स्कूल खोलने की ज़रूरत है. स्कूल बंद करने के बजाय स्कूल को सुधार कर पढ़ाई ठीक कीजिए.”

%d bloggers like this: