कैबिनेट का फैसला: स्कूलों में पास-फेल प्रणाली को वापस लाएगा असम

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी। असम अब राज्य के सभी स्कूलों की पांचवीं और आठवीं कक्षा की परीक्षा आयोजित करेगा और फेल होने वाले छात्रों को उसी कक्षा में दोबारा पढ़ाई करनी होगी। अधिकारियों ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी। गुवाहाटी में आज हुई राज्य कैबिनेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

राज्य के शिक्षा मंत्री रनोज पेगू ने कहा, शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 में कक्षा 1 से परीक्षाओं का प्रावधान था, लेकिन फेल होने वाले छात्रों को भी अगली कक्षा में भेज दिया जाता था। 2019 में असम सरकार ने अधिनियम में संशोधन किया। तदनुसार राज्य मंत्रिमंडल ने फैसला लिया कि, कक्षा 5 और 8 के छात्रों के लिए वार्षिक परीक्षा करवाई जाएगी और असफल छात्रों को उसी कक्षा में दोबारा पढ़ना होगा।

हालांकि, असफल उम्मीदवारों को एक विशेष परीक्षा में बैठने का दूसरा मौका दिया जाएगा जो वार्षिक परीक्षा परिणाम आने के बाद दो महीने के अंतराल में आयोजित की जाएगी। पेगू ने कहा, जो उम्मीदवार उस परीक्षा में असफल होंगे, उन्हें उसी कक्षा में एक और साल पढ़ना होगा।

असम के शिक्षा मंत्री ने आगे कहा कि यह व्यापक रूप से माना जाता था कि निचले और प्राथमिक वर्गों में पास-फेल संरचना की अनुपस्थिति ने राज्य में शिक्षा प्रणाली पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। इसलिए, सरकार ने इसे वापस स्कूल स्तर पर लाने का फैसला किया है।

%d bloggers like this: