हिंदुत्व वाली छवि पर ऋषि सुनक ने फिर लगाई मुहर, हाथ में कलावा बांध दिया पहला भाषण

थर्ड आई न्यूज

लंदन /नई दिल्ली। भारतवंशी ऋषि सुनक ने मंगलवार को ब्रिटिश प्रधानमंत्री के रूप में अपना कार्यभार संभाल लिया। इस दौरान उन्होंने अपनी हिंदुत्व वाली छवि को और पुख्ता कर दिया। सुनक जब वह प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास 10 डाउनिंग स्ट्रीट में अधिकारियों के साथ बैठक करने पहुंचे तो उनके हाथों पर कलावा बंधा हुआ था, जो कि हिंदू धर्म के प्रतीक चिन्हों में से एक है। उनकी यह तस्वीर वायरल हो चुकी है।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री बनने के बाद ऋषि सुनक ने वादा किया कि वह संकटग्रस्त देश की जरूरतों को राजनीति से ऊपर रखेंगे और अपनी पूर्ववर्ती सरकार द्वारा की गई गलतियों को सुधारेंगे। सुनक को दिवाली के दिन कंजर्वेटिव पार्टी का निर्विरोध नया नेता चुना गया था।
ब्रिटेन के पूर्व वित्त मंत्री ऋषि सुनक धर्म से हिंदू हैं और वह पिछले 210 साल में ब्रिटेन के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री हैं। पेशे से बैंकर रहे सुनक ने प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास 10 डाउनिंग स्ट्रीट के बाहर अपने पहले संबोधन में कहा कि उन्होंने ऐसे समय में कार्यभार संभाला है जब ब्रिटेन गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। उन्होंने उम्मीद जताई कि वह इन चुनौतियों का सामना करने में सफल होंगे।

प्रधानमंत्री बनने पर योगी ने दी बधाई :
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदत्यिनाथ ने भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक ऋषि सुनक को ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनने पर उन्हें बधाई और भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी हैं। योगी ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा, ”ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनने पर ऋषि सुनक जी आपको बधाई और शुभकामनाएं। आपकी इस ऐतिहासिक उपलब्धि पर दुनिया भर के भारतीयों को गर्व की अनुभूति हो रही है। आपके नेतृत्व में भारत ब्रिटेन रिश्तों का एक नया स्वर्णिम युग शुरू होगा।”

हिजाब पहनने वाली लड़की बनेगी भारत की प्रधानमंत्रीः ओवैसी
वहीं, अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिममीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को कहा कि हिजाब पहनने वाली लड़की भविष्य में भारत की प्रधानमंत्री बनेगी। ओवैसी ने कहा, “इंशाअल्लाह एक हिजाब पहनने वाली लड़की मेरे जीवित रहते में या मेरे जीवन के बाद भारत की प्रधानमंत्री बनेगी।” उन्होंने यह टिप्पणी तब की जब उनसे भारत मूल के ऋषि सुनक के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने को लेकर उठे विवाद पर सवाल किया गया।

आपको बता दें कि कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम और शशि थरूर ने सुनक के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने के बाद उम्मीद जतायी थी कि भारत अल्पसंख्यकों से किसी व्यक्ति को शीर्ष पद पर चुनने के लिए ब्रिटेन का का अनुसरण करेगा। चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा था, “पहले कमला हैरिस, अब ऋषि सुनक। अमेरिका और ब्रिटेन के लोगों ने अपने देशों के गैर-बहुसंख्यक नागरिकों को गले लगा लिया है और उन्हें सरकार में उच्च पद के लिए चुना है। मुझे लगता है कि भारत और बहुसंख्यकवाद का पालन करने वाली पार्टियों को सबक लेना चाहिए।”

%d bloggers like this: