असम में ‘ मियां संग्रहालय’ मामले में तीन हिरासत में, आतंकियों से जुड़े होने का शक

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी I असम के ग्वालपाड़ा में पीएम आवास योजना के तहत बनाए गए मकान में ‘ मियां संग्रहालय’ खोलने का विवाद गहराता जा रहा है। इस बीच, पुलिस ने असम मियां परिषद के अध्यक्ष व महासचिव समेत तीन लोगों को हिरासत में लिया है। उनके आतंकी संगठनों से जुड़े होने का शक है।

उल्लेखनीय है कि राज्य के ग्वालपाड़ा जिले में स्थित विवादित मियां म्यूजियम को मंगलवार को सील कर दिया गया था। रविवार को इसके उद्घाटन के तत्काल बाद भाजपा ने इसे सील करने की मांग की थी। मियां परिषद के पदाधिकारियों के खिलाफ आज यह कार्रवाई की गई I

असम मियां परिषद के अध्यक्ष एम मोहर अली को दपकाभिता में संग्रहालय से उस समय पकड़ा गया, जब वह धरने पर बैठे थे। संगठन के महासचिव अब्दुल बातेन शेख को मंगलवार रात धुबड़ी जिले के आलमगंज स्थित आवास से हिरासत में लिया गया था। इस तरह रविवार को मियां संग्रहालय का उद्घाटन करने वाली तनु धादुमिया को डिब्रूगढ़ के कावामारी गांव में उनके आवास से हिरासत में लिया गया।

इन तीनों को अल कायदा (एक्यूआईएस) भारतीय उपमहाद्वीप इकाई और अंसारुल बांग्ला टीम (एबीटी) के साथ कथित संबंधों के चलते गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) की विभिन्न धाराओं के तहत घोगरापार पुलिस स्टेशन में दर्ज एक मामले के संबंध में पूछताछ व जांच के लिए नलबाड़ी लाया गया है।

मुख्यमंत्री की प्रतिक्रिया के बाद हुई कार्रवाई :
मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने कहा कि इसमें नया क्या है? ‘लुंगी’ को छोड़कर वहां रखी गई हर वस्तु असमिया लोगों की सभ्यता और संस्कृति से जुड़ी हुई है। उन्हें सरकार को यह साबित करना होगा कि ‘नंगोल’ का उपयोग केवल मियां लोग करते हैं, अन्य नहीं। उन्होंने कहा कि राज्य के बुद्धिजीवियों को इस पर विचार करना चाहिए। जब मैंने मियां शायरी के खिलाफ आवाज उठाई तो उन्होंने मुझे सांप्रदायिक कहा। अब मियां कविता,मियां स्कूल,मियां संग्रहालय यहां हैं।

उद्घाटन के बाद खड़ा हो गया विवाद :
मियां संग्राहलय के उद्घाटन के बाद ही इसको लेकर विवाद खड़ा हो गया था। पूर्व भाजपा विधायक शिलादित्य देव ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्व विधायक ने कहा, संग्रहालय को तुरंत हटा दिया जाना चाहिए। असमिया संस्कृति को यह समुदाय स्वीकार नहीं करेगा।

उद्घाटन के बाद खोला गया यह संग्रहालय :
उद्घाटन के बाद यह संग्रहालय 23 अक्तूबर को जनता के लिए खोला गया। इसका उद्देश्य राज्य में रहने वाले लोगों के एक छोटे वर्ग की संस्कृति और विरासत को संरक्षित करना है। छोटे सेटअप में सभी आगंतुकों के लिए मियां समुदाय से संबंधित पुरानी वस्तुएं प्रदर्शित की जानी थीं। हालांकि, पिछले काफी समय से इसका उपयोग किया जा रहा था।

%d bloggers like this: