हैबरगांव के हार्डवेयर व्यवसायी के खिलाफ हैबरगांव थाने में मामला दर्ज़

थर्ड आई न्यूज

नगांव । नगांव के हैबरगांव थाने में हार्डवेयर व्यापारी सुरेश लोहिया और उनके पुत्र रोनक लोहिया के खिलाफ महेश अग्रवाल द्वारा दो अलग अलग एफ आई आर दर्ज कराई गई है।मामले संख्या 893/22 और 1268/22 पर मिली जानकारी के अनुसार पिछले 28 जुलाई को एक युवक मृण्मय बोरा महेश अग्रवाल की दुकान पर डोर फिटिंग का आइटम बिक्री करने के लिए लेकर आता है तब श्री अग्रवाल को पता चलता है कि जो यह सामग्री बेचने के लिए यह युवक लाया है वह उन्हीं के गोदाम की सामग्री है जिसके बाद वह तुरंत उक्त सामग्री के साथ चोर को पुलिस के हवाले कर देते है। सामग्री के सिलसिले में जब पुलिस चोर से पूछताछ करती है, तब चोर सीधा महेश अग्रवाल की तेलिया गांव के शंकरदेव शिशु निकेतन के समीप स्थित गोदाम जाकर बताता है कि यह सामग्री उसने यहां से ली है और वह पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल कर देता है। घटनाक्रम में उस समय नया मोड़ आता है कि जब पुलिस को महेश अग्रवाल द्वारा यह पता चलता है कि महेश अग्रवाल और सुरेश- रौनक लोहिया के बीच आपसी लेनदेन को लेकर हुई खटपट के चलते इस गोदाम पर अक्टूबर 2021 महीने में सुरेश लोहिया ने ताला जड़ दिया था। महेश अग्रवाल के कहें अनुसार उनकी इस गोदाम में जल जीवन मिशन के कार्य की करीब 44,65000 की सामग्री पड़ी थी। सुरेश लोहिया ने गोदाम पर ताला मार कर महेश अग्रवाल को सामान देने से इंकार कर दिया था और पैसे के लेनदेन को निपटाने के लिए कहा था। इसके बाद जब पुनः 1 नवंबर 2022 को महेश अग्रवाल को पता चलता है कि उनके गोदाम पर सुरेश लोहिया द्वारा दरवाजे पर वेल्डिंग की जा रही है तो वहां पुलिस को लेकर पहुंचते हैं। वहां उपस्थित लोगों को पकड़कर पुलिस थाने ले आती है। उस समय महेश अग्रवाल को पता चलता है कि उनका जितना माल था करीब-करीब गायब है। इसके बाद वह दूसरी प्राथमिकी सुरेश लोहिया के खिलाफ थाने में दर्ज करवाते हैं और पुलिस से गुहार करते हैं कि व उनके मामले पर कुछ ध्यान दें। आरोप है कि हैबरगांव थाने की सुरेश लोहिया के साथ आपसी मिलीभगत रहने के चलते पुलिस मामले को ठंडे बस्ते में डालने के प्रयास में लगी है। महेश अग्रवाल ने बताया कि उन्हें जब थाने से किसी प्रकार की मदद नहीं मिली तब उन्होंने नगांव की पुलिस अधीक्षक लीना दोले को भी इस मामले की जानकारी दी है। उन्हें अभी भी न्याय की प्रतीक्षा है। आज मीडिया को महेश अग्रवाल ने बताया कि उन्हें लगता है कि अब पुलिस से उन्हें किसी प्रकार की सहायता नहीं मिलेगी तब उन्होंने न्याय पाने के लिए अदालत जाने का मन बनाया है। उन्हें विश्वास है कि माननीय अदालत उनकी बातों को गहराई से सुनेगी और उन्हें न्याय मिलेगा। इस मामले को लेकर जब सुरेश लोहिया से संपर्क साधा गया तब उन्होंने कुछ बताने में आनाकानी की और कहा कि आप रौनक लोहिया से बात कीजिए। रोनक लोहिया से जब संपर्क किया गया तब उन्होंने साफ साफ शब्दों में मना कर दिया कि वह मीडिया के सामने नहीं आएंगे और मीडिया को इस मामले में कोई जवाब नहीं देंगे। महेश अग्रवाल के साथ हुई इस घटना को लेकर स्थानीय बाजार के व्यापारियों में पुलिस के प्रति कुछ नाराजगी देखी जा रही है। हैबरगांव थाने से जब संपर्क साधा गया तब थाना प्रभारी अभ्यज्योति राभा ने बताया कि पुलिस दोनों मामलों पर अपनी जांच पड़ताल जारी रखे हुए हैं और जल्द ही सारा मामला सामने आएगा । श्री राभा द्वारा बताया गया कि पुलिस मामले की जांच में पूरी तरह से पारदर्शिता का काम कर रही है और दोनों पक्षों की दलीलों को हर कोण से देखने के बाद ही पुलिस अपनी कार्रवाई को आगे बढ़ा रही है।

%d bloggers like this: