बदरुद्दीन अजमल ने हिंदूओं को लेकर दिया विवादित बयान, कहा- शादी के लिए मुस्लिम फार्मूला अपनाना चाहिए

थर्ड आई न्यूज

करीमगंज ।आल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIDUF) के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल ने शुक्रवार को हिंदूओं को लेकर विवादित बयान दिया। उन्होंने कहा कि हिंदुओं को मुस्लिम फॉर्मूला अपनाना चाहिए और अपने बच्चों की शादी कम उम्र में कर देनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मुस्लिम पुरुष 20-22 साल की उम्र में शादी करते हैं, और मुस्लिम महिलाएं भी सरकार द्वारा तय उम्र 18 साल में शादी करती हैं। दूसरी तरफ हिंदू शादी से पहले एक दो या तीन अवैध पत्नियां रखते हैं। जो बच्चों को जन्म नहीं देती हैं और खुद आनंद लेते हैं और पैसे बचाते हैं।’

हिंदूओं को लेकर अजमल का विवादित बयान :
मुस्लिम आबादी बढ़ने के दावों के बारे में पूछे जाने पर AIDUF प्रमुख ने कहा, ’40 साल की उम्र के बाद वे माता-पिता के दबाव में शादी कर लेते हैं। इसलिए, कोई कैसे उम्मीद कर सकता है कि वे 40 के बाद बच्चे पैदा करेंगे? यदि आप उपजाऊ भूमि में बीज बोते हैं, तभी आप अच्छी फसल ले सकते हो। तभी विकास होगा।’ अजमल ने कहा, ‘हिंदुओं को भी मुसलमानों के फार्मूले पर चलना चाहिए और अपने बच्चों की शादी कम उम्र में करानी चाहिए। उन्हें 20-22 साल की उम्र में शादी करनी चाहिए, 18-20 साल की लड़कियों की शादी करनी चाहिए और फिर देखना चाहिए कि कैसे बहुत सारे बच्चे पैदा हुए हैं।’

सीएम हिमंत की टिप्पणी पर अजमल का जवाब :
अजमल ने हाल ही में असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा की लव जिहाद पर टिप्पणियों का जवाब दिया, जो हाल ही में राष्ट्रीय राजधानी में श्रद्धा वाकर हत्याकांड के संदर्भ की गई थी। उन्होंने कहा, ‘मुख्यमंत्री आज देश के शीर्ष नेताओं में से एक हैं। तो उन्हें कौन रोक रहा है, आप भी चार-पांच ‘लव जिहाद’ करो और हमारी मुस्लिम लड़कियों को ले जाओ। हम इसका स्वागत करेंगे और लड़ाई भी नहीं करेंगे।’ अजमल ने कहा कि यह भी देखा जाएगा कि आपके पास कितनी शक्ति है।

श्रद्धा वाकर हत्याकांड पर बोले सीएम हिमंत :
बता दें कि असम के सीएम हिमंत विश्व शर्मा ने हाल ही में कहा था कि श्रद्धा वाकर मामले में ‘लव जिहाद’ का हाथ है। शर्मा ने पिछले महीने कहा था कि भारत को समान नागरिक संहिता और ‘लव जिहाद’ के खिलाफ कानून की जरूरत है। दिल्ली नगर निगम चुनाव से पहले दिल्ली में रोड शो के दौरान, असम के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘भारत को आफताब (श्रद्धा हत्याकांड के आरोपी) जैसे व्यक्ति की नहीं, बल्कि भगवान राम जैसे व्यक्ति की, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसे नेता की जरूरत है।’

%d bloggers like this: