Assam: ‘PFI से हजार गुना ज्यादा खतरनाक है RSS, मॉब लिंचिंग में शामिल’, AIUDF विधायक ने की बैन की मांग

थर्ड आई न्यूज

गुवाहाटी. असम में AIUDF के एक विधायक ने RSS पर बैन लगाने की मांग की है. बदरुद्दीन अजमल की पार्टी AIUDF के विधायक अमीनुल इस्लाम ने RSS को प्रतिबंधित इस्लामिक संगठन PFI से भी ज्यादा खतरनाक बताया. इतना ही नहीं अमीनुल इस्लाम ने वादा किया कि यदि उनकी पार्टी सत्ता में आई तो आरएसएस को बैन किया जाएगा.

अमीनुल इस्लाम ने कहा, “ये संगठन पीएफआई से भी हजार गुना ज्यादा खतरनाक हैं.” इतना ही नहीं उन्होंने कहा, “आरएसएस और बजरंग दल के लोग ‘जय श्री राम’ बोलकर लोगों की मॉब लिंचिंग कर डालते हैं.” उन्होंने यह बयान तब दिया, जब उनसे पीएफआई के आतंकवादी संगठन से संबंध को लेकर एक सवाल किया गया था.

RSS-बजरंग दल पर बैन लगाने की मांग:
अमीनुल इस्लाम ने कहा, “PFI के किससे संबंध हैं, इसके बारे में तो मुझे ज्यादा नहीं पता लेकिन PFI से हजार गुना ज्यादा खतरनाक RSS और बजरंग दल हैं. ये अतिवादी संगठन हैं जो पिटाई करते हैं, मॉब लिचिंग करते हैं, धर्म के नाम पर लोगों को मार देते हैं. ये लोग दूसरे मजहब की इमारतों को तोड़ते-फोड़ते हैं और आपसी भाईचारे में तनाव पैदा करते हैं. अगर सरकार के पास PFI के खिलाफ सबूत है तो बैन करके ठीक किया लेकिन उससे ज्यादा खतरनाक संगठनों को भी बैन करना चाहिए ताकि आपसी भाईचारा बना रहे.”

अमीनुल ने RSS पर लगाए गंभीर आरोप:
आरएसएस पर हमला करते हुए अमीनुल इस्लाम ने बड़े गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा, “आरएसएस, बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद की तरह के जो संगठन हैं, उनके पाकिस्तान से भी संबंध निकले हैं. बहुत सारे कैडर (कार्यकर्ता) तो पाकिस्तान की आईएसआई का एजेंट भी निकला है. यूपी, बिहार, राजस्थान में जितनी भी मॉब लिंचिंग हुई हैं, सभी में इनके लोग पाए जाते हैं. दूसरे मजहब के लोगों पर अटैक करते हैं और छेड़ते हैं.”

बीजेपी सरकार पर भी बोला हमला:
बीजेपी पर हमला करते हुए AIUDF के विधायक ने कहा, “बजरंग दल और आरएसएस के लोग ‘जय श्री राम’ कहकर मुसलमान को मार गिराते हैं. ऐसी सैकड़ों घटनाएं हुई हैं. बीजेपी सरकार उनकी हिमायत करती है. उन पर कोई कार्रवाई नहीं करती. बीजेपी सरकार के कारण ही वे लोग ऐसी घटनाओं को अंजाम देते हैं.”

गिरफ्तार किए लोगों का बचाव किया:
AIUDF विधायक ने आतंकवादी गतिविधियों में शामिल लोगों की गिरफ्तारी पर भी सवाल उठाए. अमीनुल इस्लाम ने कहा, “यह अदालत तय करेगी कि गिरफ्तार किए गए 53 लोग जिहादी गतिविधियों में शामिल थे या नहीं.” बता दें कि असम सरकार ने शनिवार (24 दिसंबर) को कहा कि 2022 में अब तक एक बांग्लादेशी नागरिक सहित 53 जिहादियों को गिरफ्तार किया गया है.

%d bloggers like this: