ब्रेकिंग| असम विधानसभा में पारित हुआ मवेशी संरक्षण विधेयक

cow protection bill

थर्ड आई न्यूज़, गुवाहाटी | ‘भारत माता की जय’ का नारा आज असम विधानसभा के अंदर गूंज उठा l मौका था राज्य में मवेशियों के वध, खपत और परिवहन को विनियमित करने के उद्देश्य से मवेशी संरक्षण विधेयक, 2021 पारित होना ।

गत सोमवार को मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने विधानसभा में यह कहते हुए पेश किया कि नए कानून का उद्देश्य सक्षम अधिकारियों द्वारा अनुमति प्रदान स्थानों के अलावा अन्य जगहों पर बीफ की बिक्री और खरीद पर प्रतिबंध लगाना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह कानून अधिकारियों द्वारा निर्धारित उन क्षेत्रों में मवेशियों के वध और गोमांस की बिक्री पर रोक लगाने का प्रयास करता है, जो मुख्य रूप से हिंदू और अन्य गैर-बीफ खाने वाले समुदायों या किसी मंदिर, सत्र और किसी भी अन्य संस्थान के पांच किलोमीटर के दायरे में आते हैं।

कुछ धार्मिक अवसरों के लिए छूट दी जा सकती है, सीएम ने कहा।

नए कानून के अनुसार केवल प्रमाणित या लाइसेंस प्राप्त व्यक्तियों को ही अधिकारियों द्वारा अनुमत क्षेत्रों में मवेशियों का वध करने की अनुमति होगी। विधेयक के अनुसार पशु चिकित्सा अधिकारी केवल तभी प्रमाण पत्र जारी करेगा, जब उसकी राय में गाय की उम्र 14 वर्ष से अधिक हो।

गाय, बछिया या बछड़ा तभी वध किया जा सकता है जब वह स्थायी रूप से अक्षम हो। साथ ही, केवल विधिवत लाइसेंस प्राप्त या मान्यता प्राप्त बूचड़खानों के कसाई को ही इसकी अनुमति दी जाएगी।

यह बिना वैध अनुमति के राज्य के भीतर या बाहर गोवंश के परिवहन की भी जांच करेगा। हालांकि, एक जिले के भीतर कृषि उद्देश्यों के लिए मवेशियों को ले जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा।

हालांकि विपक्ष ने शुरू में बिल में 70 से अधिक संशोधनों की मांग की, लेकिन बाद में उन्होंने बिल के विरोध में सदन से वाकआउट कर दिया। अंत में इसे ध्वनिमत से पास कर दिया गया l

%d bloggers like this: