बिहार में बिंदी बनाकर महिला ने कमा लिए इतने पैसे कि आप हो जाएंगे दंग, अब सीबीआइ कर रही तलाश

सृजन से जसीमा खातून के एकाउंट में हुआ था दो करोड़ का ट्रांजेक्शन।

थर्ड आई न्यूज़, भागलपुर | सृजन महिला विकास सहयोग समिति में बिंदी बनाने वाली जसीमा खातून देखते ही देखते करोड़पति बन गई। सृजन से शुरुआती दौर से जुड़ी जसीमा काफी कम दिनों में सचिव मनोरमा देवी का कृपापात्र बन गई थी। यही कारण था कि मनोरमा देवी का जसीमा के घर अक्सर आना-जाना होता था। बिहार सरकार के एक वर्तमान मंत्री भी भागलपुर आने के बाद उसके घर जरूर जाते थे। इस कारण जसीमा और उसके पति मोहम्मद शकील अहमद का रुतबा लगातार बढ़ता रहा। मनोरमा की कृपा से उसकी झोली में रुपये की बारिश होने लगी।

एक समय ऐसा आया कि उसके बैंक एकाउंट में दो करोड़ रुपये आ गए। इसके बाद उसने दिल्ली सहित अन्य शहरों में फ्लैट खरीद लिए। 20 लाख से अधिक की पूंजी लगाकर दुकान खोल ली। राज्य के बाहर कई बड़े उद्योगों में उसने रुपये लगाए। रुपये की बारिश होने के साथ जसीमा और उसके परिजनों का रुतबा अचानक से बढऩे लगा। मोहल्ले वाले अचंभित थे कि आखिर अचानक इतने रुपये शकील के घर कहां से आने लगे। उसके घर धनपतियों का आना शुरू हो गया। इसके बाद उसने धीरे-धीरे आसपास के लोगों को भाव देना बंद कर दिया। लोगों से मतलब हटा लिए।

अचानक सीबीआइ की टीम के पहुंचने के बाद लोगों की समझ में सारी बात आ गई। दो दिन पहले सीबीआइ की टीम साहिबगंज मोहल्ला में जाकर मोहम्मद शकील की पत्नी जसीमा खातून के घर छापेमारी के लिए गई थी। टीम सड़क पर लोगों से उसके घर का पता पूछ रही थी। इस बात की जानकारी जासीमा को हो गई और वह अपने पूरे परिवार के साथ दूसरे के घर में जाकर छिप गई। जसीमा परिवार के सभी सदस्यों के साथ प्लेन से दिल्ली भाग गई।

जसीमा मुख्य रूप से बिंदी बनाने का काम करती थी। इस कारण वह सृजन से जुड़ी थी, लेकिन उसका उपयोग मनोरमा दूसरे रूप में कर रही थी। उसके पति के माध्यम से सिल्क की साड़ी मंगवाती थी। जिसे ओहदे वालों के बीच बांटती थी। इस कारण मनोरमा देवी ने धीरे-धीरे जसीमा को विश्वास में ले लिया।

सीबीआइ के आने की सूचना मिलते ही फरार हो गई दिल्ली

सीबीआइ ने सृजन महिला विकास सहयोग समिति में टिकली (बिंदी) बनाने वाली जसीमा खातून के घर शनिवार को छापेमारी की। हालांकि जसीमा परिवार सहित फरार हो गई है। वह सृजन महिला विकास सहयोग समिति के प्रबंध कार्यकारिणी की सदस्य भी थी। सृजन से जसीमा के एकाउंट में दो करोड़ का ट्रांजेक्शन हुआ था। जसीमा के घर सृजन महिला विकास सहयोग समिति की सचिव मनोरमा देवी और भाजपा के कई कद्दावर नेताओं का आना-जाना होता था। फिलहाल जसीमा सीबीआइ के डर से दिल्ली फरार हो गई है।

जसीमा खातून के खिलाफ सीबीआइ कोर्ट ने गैरजमानती वारंट जारी किया है। अदालत ने अलग-अलग सुनवाई के दौरान कई आरोपियों के खिलाफ समन और जमानतीय वारंट जारी किए, लेकिन कोर्ट समन के बाद भी मामले के आरोपित कोर्ट में हाजिर नहीं हो रहे थे। सीबीआइ कोर्ट ने जसीमा के साथ-साथ अमित कुमार की पत्नी रजनी प्रिया, प्रणव कुमार की पत्नी सीमा देवी, समर समरेंद्र की पत्नी राजरानी वर्मा, अभिषेक कुमार की पत्नी अर्पणा वर्मा, विपिन वर्मा की पत्नी रूबी कुमारी, पुर्णेदू कुमार व सतीश कुमार के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया है। वारंट जारी होने वालों में सृजन संस्था की संस्थापक मनोरमा देवी की बहू रजनी प्रिया भी है जो कार्यकारिणी की सचिव थी। जब घोटाला उजागर हुआ उसके बाद से रजनी प्रिया भूमिगत हो गई है। जसीमा खातून साहेबगंज के रहने वाले मोहम्मद शकील अहमद की पत्नी है।

सीबीआइ ने सीए पुर्णेंदु झा, विपिन शर्मा की पत्नी रूबी कुमारी और दीपक वर्मा की पत्नी अपर्णा वर्मा को गिरफ्तार कर ली है। जसीमा को आत्मसमर्पण कराने के लिए सीबीआइ परिजनों पर दबाव बना रही है। कहा जा रहा है कि भाजपा नेता विपिन शर्मा पर दबाव बनाए जाने के कारण ही रूबी कुमारी की गिरफ्तारी हुई है।

%d bloggers like this: