पुजारियों को असम सरकार द्वारा सहायता दिए जाने की घोषणा से नाराज इमाम – मौलवी

असम सरकार का बड़ा फैसला: मंदिर के पुजारियों को दिए जाएंगे 15 हजार रुपये -  Falana Dikhana

थर्ड आई न्यूज़, गुवाहाटी | हिमंत कैबिनेट ने कल एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए पुजारियों और नामघरिया को ₹15000 की एकमुश्त सहायता देने की घोषणा की. कोरोना काल में मंदिर – नामघर बंद होने के चलते पुजारी वर्ग को रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है. लिहाजा सरकार ने मानवीय आधार पर उनकी छोटी – सी मदद करने का निर्णय लिया.

पर यह बात राज्य के इमाम और मौलवियों को हजम नहीं हुई. उन्होंने सरकार के इस फैसले को भेदभाव पूर्ण करार दिया. मौलवियों का कहना है कि कोरोना काल में वे भी प्रभावित हुए हैं. राज्य भार में मस्जिद व मदरसे बंद पड़े हैं. ऐसे में सरकार को उनकी भी सुध लेनी चाहिए थी.

एक मौलवी ने नाराजगी भरे लहजे में कहा कि मोदी और हिमंत की सरकार एक तरफ तो सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास की बात कहती है और दूसरी ओर इस तरह के एक तरफा और सांप्रदायिक निर्णय लेती है.

%d bloggers like this: