असम में कट्टरपंथी : तालिबान के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाले 14 गिरफ्तार

थर्ड आई न्यूज़, गुवाहाटी | तालिबान आतंकवादियों के एक समूह भर का नाम नहीं है, बल्कि यह एक सोच है. एक विध्वंसकारी विचारधारा है. इस विचारधारा के लोग अमूमन सारे विश्व में मौजूद है. असम भी इससे अछूता नहीं है. इसीलिए जब सारी दुनिया अफगानिस्तान में तालिबान राज आने से हैरान – परेशान और चिंतित है, वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो तालिबान की शान में कसीदे गढ़ रहे है. उनके कुकृत्यों का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर समर्थन कर रहे हैं. ऐसे लोगों पर कार्रवाई करते हुए असम पुलिस ने राज्य के 10 जिलों से 14 लोगों को गिरफ्तार किया है.

तालिबान के इन समर्थकों में कुछ तो मौलाना है और एक तेजपुर मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा है. बताया जाता है कि तेजपुर में पढ़ाई करने वाला युवक असल में हैलाकंदी जिले का है.

पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए लोगों में दरंग जिले का मौलाना फजूल करीम कामरूप ग्रामीण के अबू बकर सिद्दीकी और सईदुल हक कछार का जावेद मजूमदार बरपेटा का मोजीदुल इस्लाम और फारुख हसन खान धुबड़ी के सैयद अहमद और अरमान हुसैन हैलाकंदी का नदीम अख्तर साउथ सालमारा का खांडाकर नूर आलम ग्वालपाड़ा का मौलाना यसीन खान होजाई का मौलाना बशीरुद्दीन लश्कर तथा करीमगंज के मुजीब उद्दीन और मुर्तजा हुसैन खान हैं.

इस धरपकड़ के बाद पुलिस के एसडीजीपी जीपी सिंह ने लोगों से फेसबुक या अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आपत्तिजनक पोस्ट डालने से परहेज करने को कहा है.

%d bloggers like this: