Sushant Singh Rajput Case: सुशांत सिंह राजपूत की मौत का एक साल, क्‍या हुआ रिया का और कहां तक पहुंची जांच?

Delhi HC rejects Sushant Singh Rajput's father's plea to stay movie based  on his son | The News Minute

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत (Sushant Singh Rajput Death) का एक साल होने जा रहा है। बीते साल 14 जून को वे मुंबई के बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे। मुंबई पुलिस ने इसे सुसाइड (Suicide) माना तो सुशांत के पिता केके सिंह (KK Singh) सहित कइयों ने इसके पीछे साजिश (Conspiracy) के आरोप लगाए। इस मामले में दो राज्‍यों (बिहार व महाराष्‍ट्र) की पुलिस ही नहीं, सरकारें तक आमने-समाने नजर आईं। घटना के पीछे भाई-भतीजावाद (Nepotism) के आरोप में कई बॉलीवुड हस्तियां भी उलझतीं दिखीं। काल-क्रम में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने इसकी जांच सीबीआइ (CBI) के हवाले कर दी। घटना में मनी लॉन्ड्रिंग व ड्रग के एंगल भी निकलकर सामने आए, जिनकी जांच अलग से हो रही है। लेकिन सवाल सह है कि तमाम जांच-पड़ताल का अब तक का हासिल क्‍या है? सवाल यह भी है कि इस मामले में आरोपित सुशांत की गर्लफ्रेंड रहीं रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakravorty) कर क्‍या हुआ?

14 जून 2020 को मुंबई में हुई थी सुशांत की मौत

बीते साल 14 जून को सुशांत का शव उनके मुंबई के बांद्रा स्थित फ्लैट में मिला था। यह बड़ी संभावनाओं वाले एक प्रतिभाशाली कलाकार का दुखद अंत था। इस घटना ने पूरे देश का हिला दिया था। अगले दिन 15 जून को मुंबई के पवन हंस श्मशान घाट पर सुशांत का अंतिम संस्कार कर दिया गया। मुंबई पुलिस ने इसे सुसाइड का मामला बताया। लेकिन सवाल हवा में उमड़-घुमड़ रहे कई सवाल अपने जवाब मांग रहे थे।

सुसाइड मानन से इनकार, बताया इसमें छिपा राज

16 जून को भारतीय जनता पार्टी के सांसद निशिकांत दुबे ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताते हुए उच्चस्तरीय जांच की मांग रखी। 25 जून को बीजेपी सांसद रूपा गांगुली ने भी सीबीआइ जांच की मांग रखी। बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने इसके साजिशन की गई हत्‍या होने का दावा किया। बॉलीवुड के अंदर से भी सवाल उठने लगे। अभिनेत्री कंगना रनौत ने बॉलीवुड में सुशांत को प्रताडि़त किए जाने का आरोप लगाते हुए कई सवाल उठाए। उन्होंने साफ कहा कि दिमागी तौर पर मजबूत सुशांत सुसाइड नहीं कर सकते थे।

पटना पुलिस के मुंबई में जांच करने से हुआ बवाल

इसी दौरान सुशांत के जीजा व उत्‍तर प्रदेश के वरीय आइपीएस अधिकारी ओपी सिंह ने मामले की गहराई की जांच की मांग की। सुशांत के पिता सहित पूरे परिवार ने घटना के पीछे किसी साजिश की आशंका जताई।

घटनाक्रम ने नया मोड़ तब लिया, जब 29 जुलाई 2020 को सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह ने पटना के राजीव नगर थाने में बेटे की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती सहित छह लोगों के खिलाफ सुसाइड के लिए उकसाने व भयादोहन की एफआइआर दर्ज कराई। इसके बाद 29 जुलाई को पटना पुलिस की टीम जांच के लिए मुंबई गई, जहां उसे महाराष्‍ट्र पुलिस के असहयोग ही नहीं, विरोध का भी समाना करना पड़ा। इस मामले में कानून-व्‍यवस्‍था के राज्‍य का मसला होने की बात उठी। दोनों राज्‍यों की सरकारें भी आमने-समाने दिखीं।

Narcotics Control Bureau raid Rhea Chakraborty and Samuel Miranda's houses  : Bollywood News - Bollywood Hungama

गर्लफ्रेंड रिया हुईं अंडरग्राउंड, डिलीट की पोस्‍ट

इस विवाद के दौरान सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया सहित सभी आरोपित भूमिगत हो गए। पटना पुलिस उन्‍हें मुंबई में खोज रही थी। इसके पहले 18 जून को ही रिया चक्रवर्ती ने मुंबई के बांद्रा थाने में अपना बयान दर्ज करा दिया था। रिया ने इसके पहले सुशांत से जुड़ी सभी सोशल मीडिया पोस्ट डिलीट कर दी थी।

सुप्रीम कोर्ट के आदेया पर सीबीआइ जांच आरंभ

सुशांत के पिता की एफआइआर पर दोनों राज्‍यों के बीच उपजे सवैधानिक संकट के बीच राजनीति भी खूब गरमाती दिखी। इस एफआइआर के पहले चार जुलाई 2020 को ही सुशांत के पिता ने मामले की सीबीआइ जांच की मांग की थी, जिसे आधार बनाकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से इसकी सिफारिश कर दी। आरोपों के घेरे में आईं रिया चक्रवर्ती ने भी 16 जुलाई 2020 को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मामले की सीबीआइ जांच की मांग की। आगे पांच अगस्त 2020 को केंद्र सरकार ने भी सीबीआइ जांच को स्‍वीकृति दे दी। सुप्रीम कोर्ट ने भी 19 अगस्‍त को इसपर मुहर लगा दी। इसके बाद सीबीआइ ने मामला अपने हाथ में ले लिया।

ईडी व एनसीबी ने भी शुरू की अलग-अलग जांच

इस बीच सवाल उठा कि आखिर सुशांत के करोड़ाें रुपये कहां गए? उनकी गर्लफ्रेंड रहीं रिया चक्रवर्ती व परिवार पर भयादोहन के आरोप लगे। मामला 30 जुलाई को प्रवर्तन निदेशालय तक पहुंचा। सुशांत की हत्‍या की जांच के लिए मुंबई गई बिहार पुलिस की टीम ने इसमें इडी की मदद की। इसी दौरान ईडी को रिया च्रक्रवर्ती सहित कई अन्‍य के ड्रग सिंडिकेट से संबंधों कर पता चला। फिर ईडी के कहने पर इस मामले में एनएसबी ने 26 अगस्‍त को एफआइआर दर्ज कर जांच शुरू की।

जेल गईं रिया, कई बॉलीवुड हस्तियों से पूछताछ

सीबीआइ के अलावा एनएसबी व ईडी ने रिया च्रक्रवर्ती व उनके परिवार तथा अन्‍य कई से कई बार पूछताछ की।

चार सितंबर 2020 को एनसीबी ने रिया व उनके भाई शौविक तथा सुशांत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा को भी गिरफ्तार किया। फिर तो बॉलीवुड में ड्रग के उपयोग की चर्चा सुर्खियों में आ गई। अभिनेत्री कंगना रनौत ने इसपर खूब बयान दिए। इसकी आंच एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर के साथ रकुलप्रीत सिंह तक पहुंच गई।  उन्‍हें एनएसबी ने 23 सितंबर को पूछताछ के लिए बुलाया। यह जांच अभी चल ही रही है। एनसीबी ने नौ नवंबर को ड्रग मामले में एक्टर अर्जुन रामपाल के बांद्रा स्थित आवास पर छापेमारी की तो कुछ ही दिन पहले 28 मई 2021 को सुशांत के फ्लैटमेट रहे सिद्धार्थ पिठानी को गिरफ्तार किया। इस बीच आठ अक्टूबर 2020 को रिया चक्रवर्ती जमानत पर रिहा होकर बाहर आ गईं हैं।

Sushant Singh Rajput is All Smiles with His Sisters in This Throwback Pic

सलमान-करण पर बिहार सहित देश भर में मुकदमें

सुशांत की मौत को लेकर सोशल मीडिया में लगातार प्रतिक्रियाएं आतीं रहीं। इस दौरान फिल्म इंडस्ट्री में भाई-भतीजेवाद का मुद्दा भी लगातार उछलता रहा। बॉलीवुड के अंदर से कंगना रनौत ने इस मुद्दे को आवाज दी। सुशांत के चाहने वालों ने करण जौहर, सलमान खान, एकता कपूर आदि कई बॉलीवुड हस्तियों को निशाने पर लिया। बिहार सहित पूरे देश में उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुए तथा मुकदमें दर्ज किए गए।

एम्‍स के मेडिकल बोर्ड ने की जांच, माना सुसाइड

इस बीच आगे बढ़ती सीबीआइ जांच के दौरान जांच एजेंसी ने घटना-स्‍थल पर मौत कर सीन रिक्रियेट किया। कई संबंधित लोगों से पूछताछ की गई। बीते 28 अगस्त को रिया चक्रवर्ती से भी घंटों पूछताछ की गई। सीबीआइ ने 24 जून 2020 को सार्वजनिक की गई पोस्टमार्टम रिपोर्ट को भी देखा, जिसमें शव पर किसी तरह के स्ट्रगल मार्क्स या फिर बाहरी चोट के निशान नहीं मिलने की बात दर्ज है। इस रिपोर्ट पर सीबीबाइ ने दिल्‍ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान के मेडिकल बोर्ड की भी राय ली। बीते पांच अक्टूबर को एम्स दिल्ली के मेडिकल बोर्ड ने सुशांत की मौत के कारणों को लेकर सीबीआइ को अपनी जांच रिपोर्ट सौंप दी। मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट के अनुसार यह सुसाइड का मामला था।

मीडिया ट्रायल कर रही कुछ टेलीविज़न चैनल्स अपने ही उलझनों में फंसती दिखाई दी और इस केस पर कोई नयी बात की पुष्टि नहीं हो पायी है। मीडिया ट्रायल कर रही कुछ टेलीविज़न चैनल एकतरफा किसी एक व्यक्ति विशेष को मुजरिम करार देने की कोशिश करने लगी, जिस वजह से जांच कर रही एजेंसियों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ा । टी आर पि के चक्कर में कुछ टेलीविज़न चैनल्स बदनाम हो गई और कुछ शीर्ष अदालत की चौखट पर दिखाई दिए।

बहरहाल, ये मामला सुलझ चुकी है।

%d bloggers like this: